न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

नर्मदा के ईर्दगिर्द चक्कर लगाती मध्य प्रदेश की राजनीति

मध्य प्रदेश की राजनीति इन दिनों नर्मदा के ईर्दगिर्द चक्कर लगा रही है। पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नर्मदा किनारे की यात्रा की और अब मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह पैदल नर्मदा यात्रा पर निकल पड़े हैं। राजनीति से अवकाश लेकर 6 महीने की नर्मदा यात्रा पर निकले कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह इसे धार्मिक यात्रा बता रहे हैं लेकिन इसके राजनीतिक निहितार्थ से कोई भी इनकार नहीं कर सकता। अपने गुरु द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद का आशीर्वाद लेकर दिग्गीराजा ने विजयादशमी के दिन अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ 3,300 किलोमीटर लंबी और लगभग 6 माह तक चलने वाली नर्मदा परिक्रमा प्रारंभ की है। इस यात्रा में उनके बेटे जयवर्धन सिंह, भाई लक्ष्मण सिंह व उनकी पत्नी अमृता राय भी मौजूद हैं।
दिग्विजय सिंह को अक्सर मुस्लिमों के पक्ष में खुलकर बोलने के लिए जाना जाता है। यहां तक कि कई बार उनके बयान उनकी पार्टी के लिए ही फजीहत का कारण बन चुके हैं। बावजूद इसके कांग्रेस में उनका कद कभी कम नहीं हुआ। उन्हें दूरदृष्टि वाला राजनेता माना जाता है। अर्जुन सिंह की स्टाइल में राजनीति करने वाले दिग्गीराजा अपने लोगों की मदद आउट ऑफ वे जाकर भी करने के लिए विख्यात हैं। यही कारण है कि मध्य प्रदेश की ब्यूरोक्रेसी में उनकी आज भी जबरदस्त पकड़ है। मुस्लिम मुद्दों पर अक्सर अपनी आवाज बुलंद करने वाले दिग्विजय सिंह के बारे में यह बात बहुत कम लोगों को ही पता होगा कि वे किसी भी अन्य आम हिंदू जैसा ही नियमित रूप से हिंदू कर्मकांडों का पालन करते हैं। जगद्गगुरु स्वामी स्वरूपानंद के परम शिष्यों में से एक दिग्विजय सिंह स्नान, ध्यान व पूजा पाठ किये बगैर नाश्ता तक नहीं करते।
राघवगढ़ के राजमहल से दिल्ली के सत्ता गलियारों तक अपनी मजबूत पकड़ रखने वाले दिग्गी राजा के बारे में कहा जाता है कि जब वे हाशिए पर होते हैं तब भी बहुत कुछ करने की क्षमता रखते हैं। राजनीति के धुरंधर खिलाड़ी दिग्विजय सिंह की नर्मदा किनारे की इस यात्रा से मध्य प्रदेश की राजनीतिक दशा व दिशा में बहुत बड़ा भूचाल जरूर आएगा। दिग्विजय सिंह को राजनीति का चाणक्य भी कहा जाता है। कहा जाता है कि दिग्विजय सिंह राजनीति नहीं करते बल्कि राजनीति का दूसरा नाम दिग्विजय सिंह है। इतिहास गवाह है कि उन्होंने कई बार हारी हुई बाजी को एन मौके पर पलट दिया है। मध्यप्रदेश कांग्रेस में यदि समर्थकों के लिहाज से देखें तो दिग्विजय सिंह को ज्योतिरादित्य सिंधिया, कमलनाथ, सुरेश पचौरी या अन्य क्षेत्रीय क्षत्रप भी नजरअंदाज नहीं कर सकते। उन्होंने अपनी इस यात्रा को धार्मिक अवश्य घोषित किया है परंतु उनका राजनीतिक चोला उनके साथ है। परिवार का हर वह सदस्य जो सक्रिय राजनीति में है, उनके साथ चल रहा है। चाहे वह उनके भाई लक्ष्मण सिंह हों, बेटे जयवर्धन सिंह या पत्नी अमृता राय।
अपने बयानों से अक्सर सुर्खियों में रहने वाले मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता दिग्विजय सिंह की इस धार्मिक यात्रा को सियासी नजरिए से देखें तो यह मध्य प्रदेश के लगभग 120 विधानसभा क्षेत्रों से होकर गुजरेगी। गौरतलब है कि मध्य प्रदेश में अगले साल के अंत में विधानसभा चुनाव है। राजनीतिक गलियारे में दिग्विजय की इस यात्रा को राष्ट्रीय और प्रदेश स्तर पर अपना कद बड़ा करने के लिए एक ‘मास्टर स्ट्रोक’ के रूप में माना जा रहा है। बावजूद इसके कि दिग्विजय सिंह ने अपनी यात्रा शुरू करने के पहले ही साफ कर दिया था कि उनकी यात्रा धार्मिक और अध्यात्मिक है, इसलिए इस दौरान वह राजनीति पर बात नहीं करेंगे।
भले ही प्रदेश की राजनीति में दिग्विजय सिंह को गुजरा हुआ वक्त और मिस्टर बंटाधार की उपाधि के साथ-साथ बीजेपी दिग्विजय की सक्रियता को अपने फायदा का सौदा बताती है, लेकिन हकीकत ये है कि आज भी प्रदेश के तमाम कांग्रेसी दिग्गजों की अपेक्षा पूरे प्रदेश में दिग्विजय के समर्थकों की संख्या सबसे ज्यादा है। खासकर दिग्विजय की यह नर्मदा यात्रा भाजपा खेमे और शिवराज सरकार के लिए चिंता का सबब बन गयी है। यह यात्रा कांग्रेस में जोश भरने के साथ शिवराज सरकार के लिए खतरे की घंटी बजने का संकेत दे रही है।
70-वर्षीय दिग्विजय ने नरसिंहपुर में अपने गुरु द्वारका-शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का आशीर्वाद लेकर इस यात्रा की शुरुआत की। एक दिन में 15 से 20 किलोमीटर चलने का लक्ष्य रखा गया है। दिग्विजय की इस यात्रा में उनके समर्थक लगातार उनसे मिलने आ रहे हैं और वो भी यात्रा में कुछ दूर तक जुड़ जाते हैं। यात्रा के दौरान महिलाएं दिग्विजय सिंह की पत्नी अमृता राय से मिलती हैं और अपनी समस्याएं सुनाती हैं।
नरसिंहपुर के बरमान घाट से जय नर्मदे के नारे के साथ प्रारंभ नर्मदा यात्रा में दिग्विजय यह जायजा लेंगे कि प्रदेश सरकार ने नर्मदा नदी के किनारों पर करोड़ों रुपये खर्च कर कैसा पौधारोपण किया है। इसके साथ ही यात्रा के दौरान दिग्विजय नर्मदा नदी में बड़े पैमाने पर होने वाले अवैध रेत खनन का साक्ष्य भी यात्रा के समापन पर रखेंगे। अब देखना होगा कि छह महीने बाद जब दिग्विजय सिंह की ये यात्रा पूरी होगी तो यह उनके कद को और कितना ऊंचा कर पाती है। गौरतलब है कि दस साल तक राज्य के मुख्यमंत्री रहने के बाद स्वेच्छा से राजनीति से दूर रहे और उसके बाद जब फिर से वे राजनीतिक रूप से सक्रिय हुए तो यूपीए सरकार के दौरान सत्ता के गलियारों में उनकी धमक साफ सुनाई देती थी। उनके कई बयान विवादास्पद रहे फिर भी कांग्रेस में उनके कद और पद में कोई अंतर नहीं आया। जो उन्हें ठीक लगा पूरे विश्वास के साथ उसे कहा।

बद्रीनाथ वर्मा

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar