न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

नीतीश ने उठाया दिल्ली की अवैध कॉलोनियों का मुद्दा

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में पैर जमाने की कोशिश में जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने आज यहाँ एक कार्यकर्ता सम्मेलन का आयोजन किया जिसमें पार्टी के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने अवैध कॉलोनियों का मुद्दा उठाते हुये कहा कि वे इन्हें नियमित करने के लिए केंद्र तथा राज्य सरकार को पत्र लिखेंगे।

पार्टी के प्रदेश तथा राष्ट्रीय पदाधिकारियों द्वारा मंच से अवैध कॉलोनियों का मुद्दा उठाये जाने पर बिहार के मुख्यमंत्री श्री कुमार ने जदयू कार्यकर्ताओं से कहा कि दिल्ली की 1642 अवैध कॉलोनियों को नियमित किये जाने का मुद्दा वे पूरे जोर-शोर से उठायें। उन्होंने कहा “अगले साल मार्च में पार्टी की (प्रस्तावित) रैली में इसी को मुद्दा बनाइये। पार्टी की तरफ से पूरा समर्थन मिलेगा। मैं स्वयं राज्य और केंद्र सरकार को भी लिखूँगा।”

इससे पहले जदयू के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष नरसिंह शाह और उपाध्यक्ष दयानंद राय ने बताया कि इन 1642 अनाधिकृत कॉलोनियों में करीब 30 लाख लोग रहते हैं।

श्री कुमार ने बिना किसी का नाम लिये आरोप लगाया कि पहले दिल्ली में जदयू के विस्तार की संभावनाओं की उपेक्षा की गयी थी। उन्होंने कहा कि दिल्ली में इतनी बड़ी संख्या में बिहार के लोग रहते हैं कि यहाँ पार्टी के विस्तार की काफी संभावनाएँ हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के लोगों ने किसी की कृपा पर नहीं, अपनी मेहनत के बल पर दिल्ली में खुद स्थापित किया है। बिहार-पूर्वांचल के लोग अब प्रवासी नहीं, यहाँ के स्थायी निवासी हैं। उन्होंने यहाँ रहने वाले बिहार के मूल निवासियों से दिल्ली को अपना समझकर इसे बेहतर बनाने में मदद देने की अपील की।

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव और दिल्ली प्रभारी संजय झा ने कहा कि हालाँकि इस साल दिल्ली नगर निगम चुनावों में पार्टी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा था, लेकिन अब राज्य के 70 में से 55 विधानसभा क्षेत्रों में उसके अध्यक्ष बन गये हैं। नगर निगम की 272 सीटों में से जदयू ने 70 पर अपने उम्मीदवार खड़े किये थे।

तालकटोरा स्टेडियम आयोजित इस सम्मेलन में करीब सात-आठ हजार कार्यकर्ता आये थे और बड़ी संख्या में लोग खड़े थे, लेकिन सम्मेलन के समापन तक काफी कुर्सियाँ खाली भी हो गयी थीं।
श्री कुमार ने कहा कि वह स्वयं दिल्ली की घनी आबादी वाली बस्तियों में भी गये हैं और उनकी हालत जैसी है, वैसी बिहार के किसी गाँव की भी नहीं है। उन्होंने अपने शासनकाल के दौरान बिहार में विकास का हवाला देते हुये कहा कि यहाँ से अपने गाँव जाने वाला व्यक्ति वहाँ बदलाव साफ देख सकता है।
जदयू अध्यक्ष ने कहा कि बिहार सरकार सात निश्चयों पर काम कर रही है और उसने राज्य के हर घर में पेय जलापूर्ति, शौचालय और बिजली की सुविधा तथा गाँवों एवं शहरों में समान रूप से गलियों तक को पक्का करने और पक्की नाली बनाने का लक्ष्य रखा है। उन्होंने बालिकाओं को पोशाक और साइकिल दिये जाने का जिक्र करते हुये कहा कि जब वह पहली बार सत्ता में आये थे उस समय नवीं कक्षा में पढ़ने वाली बालिकाओं की संख्या एक लाख 70 हजार थी जो अब बढ़कर नौ लाख पर पहुँच चुकी है। उन्होंने कहा कि राज्य में प्राथमिक स्कूलों में बालकों और बालिकाओं की संख्या लगभग बराबर हो चुकी है।
जदयू के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव के.सी. त्यागी ने पार्टी के विस्तार में कार्यकर्ताओं के सहयोग की अपील करते हुये कहा कि आने वाले समय में इसे राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा दिलाना उनका लक्ष्य होना चाहिये। उन्होंने इस रैली के पूर्व प्रधानमंत्री वी.पी. सिंह के समय के जनता दल के बाद की सबसे बड़ी कार्यकर्ता रैली होने का दावा किया।
सम्मेलन के आरंभ में पार्टी की प्रदेश इकाई की ओर से बिहार के बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए श्री कुमार को 11 लाख रुपये का चेक भी सौंपा गया। फूल-मालाओं से उनके स्वागत के साथ ही उन्हें मिथिला का पाग और सिख कार्यकर्ताओं द्वार कृपाण भेंट किया गया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar