National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

पराली जलाने पर सरपंच सस्पेंड हो सकता है तो 3 बार हरियाणा जलने पर मुख्यमंत्री सस्पेंड क्यों नहीं: दीपेन्द्र हुड्डा

युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष तरूण तेवतिया के नेतृत्व में हुड्डा के सम्मान में निकाला सम्मान जलूस

फरीदाबाद। रोहतक के सासंद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा है कि अगर पराली जलाने पर गांव का सरपंच सस्पेंड हो सकता है तो 3 बार हरियाणा जलने पर मुख्यमंत्री सस्पेंड क्यों नहीं?। उन्होंने कहा कि भाजपा राज में सरपंचों के लिए एक कानून है और राज्य के मुख्यमंत्री के लिए अलग। जहां सरपंच को गांव में पराली जलने के लिए जिम्मेदार समझा जाता है और उसके खिलाफ कार्यवाही की जाती है, वहीं तीन बार प्रदेश जलने के बाद भी मुख्यमंत्री के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं हुई। श्री हुड्डा युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष तरूण तेवतिया के संयोजन में युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा निकाले गए सम्मान जलूस में शामिल होने के उपरांत पत्रकारों से वार्ता कर रहे थे। जलूस में युवाओं का जोश देखने लायक था तथा उन्होंने अपने नेता दीपेन्द्र हुड्डा को पलक पावडे बिठा लिया। उन्होंने इस मौके पर बल्लभगढ़ में आयोजित किसान-मजदूर पंचायत में पृथला के पूर्व विधायक रघुबीर सिंह तेवतिया के संयोजन में पहुंचे भारी संख्या में किसान व युवाओं के पहुंचने पर उनकी पीठ थपथपाई तथा खुले दिल से किसान व युवाओं का आभार व्यक्त करते हुए प्रदेश में सत्ता परिवर्तन की लहर में अपनी अहम भूमिका अदा करने का भी आह्वान किया। सांसद दीपेन्द्र हुड्डा ने कहा कि भाजपा सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण जनता का गुस्सा उबाल पर है। भाजपा ने देश भर में नम्बर वन प्रदेश को जीरो पर ला दिया है। उन्होंने कहा कि युवाओं को ना रोजगार मिल रहा है और ना ही बेरोजगारी भत्ता। उन्होंने कहा कि 12वीं पास युवाओं को 6 हजार और स्नातक पास को 9 हजार बेरोजगारी भत्ता देने का वायदा भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में किया था, जिसे उसने पूरा नहीं किया। उन्होंने उपस्थित युवाओं से वायदा करते हुए कहा कि आने वाले चुनावों में कांग्रेस के रुप में उनके सपनों की सरकार बनेगी और किसानों के कर्जे माफ करने के साथ बेरोजगार युवाओं को भत्ता भी वही देंगे। श्री हुड्डा ने आज मुख्यमंत्री खट्टर के उस बयान पर भी पलटवार किया जिस बयान में मुख्यमंत्री ने कहा था कि पिछले मुख्यमंत्रियों से जनता भयभीत रहती थी और लोग मुख्यमंत्रियों से मिलने में 10 बार सोचते थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर भी इस बात को बालते हैं जिन्होंने जनता से बचने लिए सीएम विंडों तक का सहारा लिया हुआ है और उसी सीएम विंडों पर लोगों की सुनवाईतक नहीं हो रही। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार ने फरीदाबाद को दोबारो से उस तरफ से फकीराबाद बना दिया जिस तरह से चौटाला राज में था।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar