National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

प्रदूषण राहत यंत्र लगाने के लिए केंद्र व राज्य सरकारे मिल कर उद्योगपतियों को 50 प्रतिशत सब्सिडी दे : बजरंग दास गर्ग

चण्डीगढ़ – अखिल भारतीय व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव व हरियाणा प्रदेश व्यापार मंडल के प्रान्तीय अध्यक्ष बजरंग दास गर्ग ने कहा कि माननीय सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार व सभी राज्यों की सरकारों को फर्नेस ऑयल व पेट कोक के इस्तेमाल पर 17 नवम्बर 2017 को रोक लगाने पर विचार करने को कहा था। इस से पहले सुप्रीम कोर्ट ने 1 नवम्बर 2017 से हरियाणा, राजस्थान व उत्तर प्रदेश के एनसीआर शहरों में फर्नेस ऑयल व पेट कोक के इस्तेमाल पर रोक लगाई हुई हैं। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग दास गर्ग ने कहा कि उद्योगों को प्रदूषण राहत बनाने के लिए वेट स्क्रबर व अन्य प्रदूषण राहत यंत्र उद्योग में लगाने का जो खर्चो आए उस खर्चे में केंद्र व राज्य सरकार को उद्योगपतियों को 50 प्रतिशत सब्सिडी देनी चाहिए। क्योंकि आज पूरे देश में लगभग छोटे उद्योग नुकसान में चल रहे हैं। उद्योगपतियों की हालत इतनी खस्ता है कि वह बैंकों का ब्याज व किस्ते भी जमा कराने की स्थिति में में नहीं हैं अनेकों उद्योगपतियों के बैंक खाते अन पी ए तक हो चुके हैं। एक तरफ केंद्र व राज्य सरकार देश व प्रदेश में उद्योगों को बढ़ावा देने की बात कर रही हैं। दुसरी तरफ उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए जो रियायते देनी चाहिए। उसकी तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा। केंद्र सरकार को सबसे पहले उद्योगपतियों को कम ब्याज पर लोन देना चाहिए व गांवों में कुटीर लघु उद्योगों को बढ़ावा देने के लिए बिना ब्याज पर लोन, उद्योग लगाने के लिए जमीन व कम दरों पर बिजली दी जाए। ताकि बेरोजगारों को गांवों में रोजगार मिल सके। इस से देश में रोजगार बढ़ेगा और बेरोजगारी काफी हद तक कम होगी। श्री गर्ग ने केंद्र व राज्य सरकारों से व्यापार व उद्योग को बढ़ावा देने के लिए व्यापारी व उद्योगपतियों को ज्यादा से ज्यादा रियायते व सुविधा देने की मांग की हैं। राष्ट्रीय महासचिव बजरंग दास गर्ग ने कहा कि प्रदूषण की समस्या एनसीआर क्षेत्र ही नहीं पूरे देश में प्रदूषण की समस्या है आज देश में प्रदूषण की समस्या से राहत दिलाने की बहुत जरूरत है प्रदूषण से राहत दिलाने के लिए केंद्र व हर राज्यों की सरकारों को उचित कदम उठाते हुए इस समस्या का हल निकालना चाहिए।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar