National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

प्रेरित माथुर को चार को राष्ट्रपति करेंगे सम्मानित

फरीदाबाद।  सेक्टर-28 में रहने वाले प्रेरित माथुर को वर्ष 2015 में दिल्ली आइआइटी टॉप करने पर राष्ट्रपति रामनाथ कोङ्क्द चार नवंबर को स्वर्ण पदक पहनाकर सम्मानित करेंगे। इसके अलावा मैकेनिकल इंजीनिरिंग में बेस्ट प्रोजेक्ट बनाने पर आइसीआइएम स्टे अहेड अवॉर्ड और हार्डवेयर में नैनो पार्टिकल पर प्रोजेक्ट बनाने पर पदमश्री मनमोहन सूरी अवॉर्ड से भी नवाजा जाएगा। बेटे की उपलब्धि पर खुशी जाहिर करते हुए पिता एसके माथुर ने बताया कि उनके लिए बड़ी उपलब्धि है कि राष्ट्रपति प्रेरित को सम्मानित करेंगे। प्रेरित शुरू से ही पढ़ाई में काफी अच्छा रहा है। उसने खेलकूद, फिल्म और फेसबुक चलाने की उम्र में किताबों से दोस्ती कर ली। वह डीपीएस सेक्टर-19 में छात्र रहा और 10वीं व 12वीं कक्षा में बेहतरीन अंक प्राप्त किए थे। आइआइटी जेईई की परीक्षा में उन्होंने ऑल इंडिया में 349वां स्थान प्राप्त किया था। वर्ष 2015 में दिल्ली आइआइटी में चयनित होने पर पूर्व केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री कपिल सिब्बल ने पत्र के जरिए प्रशंसा की थी। उसने आइआइटी पढ़ाई के दौरान ओपीजेइएमएस (ओपी जिंदल इंजीनिरिंग मैनेजमेंट स्कॉलरशिप) स्कॉलरशिप भी हासिल की थी। इसके अलावा 12वीं कक्षा में पढ़ाई के दौरान नेशनल एस्ट्रोनॉमी ओलंपियाड अवॉर्ड भी हासिल किया और साल 2016 में जेईएनईएसवाईएस 2016 कार्यक्रम के दक्षिण कोरिया में हुए इंडियन यूथ एक्सचेंज डेलीगेशन के समूह में स्थान प्राप्त किया था। एसके माथुर ने बताया कि प्रेरित अपने बड़े भाई सौम्य की पढ़ाई में हमेशा अव्वल रहा है। प्रेरित ने यूपीएससी, रेलवे सहित सरकारी विभागों प्रवेश परीक्षा पास की है, लेकिन उसका रुझान हमेशा से ही इंजीनिरिंग की ओर था। इसके चलते उसने सरकारी नौकरी में जाने से इंकार दिया। इसके अलावा अहमदाबाद आइआइएम में चयन के लिए विद्यार्थी दिन-रात मेहनत करते हैं। आइआइएम अहमदाबाद की प्रवेश परीक्षा में 99.7 प्रतिशत अंक हासिल किए थे। इसके बावजूद दाखिला नहीं मिल पाता है, लेकिन प्रेरित ने इसे भी ठुकरा दिया। वह फिलहाल स्विट्जरलैंड के ज्यूरिख में ईटीएच से एमएस प्रोग्राम की पढ़ाई कर रहा और राष्ट्रपति से स्वर्ण पदक पहनने के लिए जल्द ही भारत वापस आएगा।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar