National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

फिरोजशाह कोटला को मिला वीरेंद्र सहवाग गेट

नयी दिल्ली। राजधानी के एतिहासिक क्रिकेट मैदान फिरोजशाह कोटला को भारत के दिग्गज बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के नाम पर गेट मिल गया है और कोटला मैदान के गेट नंबर दो का नाम वीरेंद्र सहवाग गेट रख दिया गया है। दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) का प्रशासन देख रहे प्रशासक जस्टिस विक्रमजीत सेन (सेवानिवृत्त) ने सोमवार को एक बयान में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा,“ मुझे यह बताते हुए बहुत खुशी महसूस हो रही है कि दिल्ली के दिग्गज बल्लेबाज सहवाग के अभूतपूर्व योगदान के लिए फिरोजशाह कोटला के गेट नंबर दो का नाम उनके नाम पर रखने का फैसला किया गया है।” जस्टिस सेन ने कहा,“ डीडीसीए के पिछले प्रबंधन ने सहवाग के उपलब्धियों को मान्यता देने के लिए गेट नंबर दो का नाम वीरेंद्र सहवाग गेट रखने का वादा किया था और मैं उस वादे को पूरा कर रहा हूं। इस गेट का अनावरण 31 अक्टूबर को 12 बजे किया जाएगा।” दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में शुमार सहवाग ने भारत के लिए 104 टेस्टों में 8586 रन और 251 वनडे में 8273 रन बनाए। उनके नाम टेस्ट मैचों में दो तिहरे शतक और वनडे में एक दोहरा शतक दर्ज है। उनका टेस्ट में सर्वाधिक स्कोर 319 रन और वनडे में 219 रन हैं।
सहवाग गत 20 अक्टूबर को 39 साल के हुए थे और डीडीसीए ने उनके नाम पर कोटला के एक गेट का नाम रखने का फैसला कर उन्हें जन्मदिन का शानदार तोहफा दिया है। यह पहला मौका होगा जब कोटला के किसी गेट का नाम क्रिकेटर के नाम पर रखा जाएगा।
जस्टिस सेन ने कहा,“ दिल्ली की क्रिकेट में अभूतपूर्व योगदान देने वाले क्रिकेटरों को मान्यता देने की दिशा में यह पहली पहल है। एक समिति का गठन किया गया है जो डीडीसीए के अन्य दिग्गज क्रिकेटरों की उपलब्धियों का मूल्यांकन करेगी और उनके नामों की सिफारिश करेगी जिससे स्टेडियम के विभिन्न हिस्सों पर उनके योगदान को मान्यता देते हुए प्रदर्शित किया जा सकेगा।”
डीडीसीए के प्रशासक ने साथ ही कहा,“ मुझे यह बताते हुए भी काफी गर्व महसूस हो रहा है कि हमारी घरेलू टीम ने अब तब शानदार प्रदर्शन किया है। डीडीसीए के अंडर 19 टीम उत्तर क्षेत्र वीनू मांकड ट्राफी में चैंपियन रही। मुझे विश्वास है कि हमारी रणजी टीम और अंडर 23 टीम भी सफलता के पथ पर अग्रसर है। मुझे उम्मीद है कि इस तरह की पहल से हमारी घरेलू टीमों को और ऊंचाईयों पर पहुंचने के लिए प्रेरणा मिलेगी।”

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar