न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के अभेद्य दुर्ग में श्रीलंका फतह करेगा भारत

नयी दिल्ली। करिश्माई कप्तान और बल्लेबाज विराट कोहली के कुशल हाथों में दौड़ रहा टीम इंडिया का विजय रथ यहां फिरोजशाह कोटला मैदान के अपने अभेद्य दुर्ग में शनिवार से होने वाले तीसरे और अंतिम टेस्ट में श्रीलंका को ध्वस्त कर सीरीज कब्जाने उतरेगा। भारत ने कोलकाता में पहला टेस्ट ड्रा होने के बाद नागपुर में  दूसरा टेस्ट पारी और 239 रन के रिकार्ड अंतर से जीतकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। भारत यदि कोटला में तीसरे टेस्ट में भी श्रीलंका को फतह कर लेता है तो वह आस्ट्रेलिया के लगातार नौ सीरीज जीतने के विश्व रिकॉर्ड की भी बराबरी कर लेगा।
विश्व की नंबर एक टेस्ट टीम भारत को कोटला मैदान में जबर्दस्त रिकॉर्ड है। उसने यहां पिछले 30 वर्षाें में 11 मैचों में 10 जीते हैं और एक ड्रा खेला है। इन 30 वर्षाें में दुनिया की कोई भी टीम भारत को कोटला में पराजित नहीं कर पाई है। श्रीलंका ने इस मैदान पर अपना पिछला टेस्ट 2005 में खेला था और तब उसे 188 रन की पराजय का सामना करना पड़ा था।
भारत का लगातार बेहतरीन प्रदर्शन, खिलाड़ियों की जबर्दस्त फार्म और कप्तान कोहली का विराट साहस टीम इंडिया को सफलता की नई ऊंचाईयों पर ले
जा चुका है और अब बस इसमें एक अध्याय जोड़ना बाकी है। भारत इस मैच को जीतते ही सीरीज 2-0 से अपने नाम कर लेगा और आस्ट्रेलिया के लगातार नौ
सीरीज जीतने के विश्व रिकार्ड की भी बराबरी कर लेगा। कोटला टेस्ट के लिए यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या भारत पिछले टेस्ट की ही एकादश को उतारता है और या उसमें कोई परिवर्तन करता है।
नागपुर में ओपनर लोकेश राहुल मात्र सात रन बना पाए थे और यदि टीम में कोई परिवर्तन होता है तो वह अंतिम एकादश में आेपनर शिखर धवन की वापसी हाे
सकती है जो मुरली विजय के जोड़ीदार के रुप में आेपनिंग में उतर सकते हैं। विजय ने नागपुर में 128, चेतेश्वर पुजारा ने 143, कप्तान विराट ने 213 और रोहित शर्मा ने नाबाद 102 रन बनाए थे। यानि इस बल्लेबाजी के साथ किसी भी तरह की छेड़छाड़ की कोई उम्मीद नहीं है। टीम का गेंदबाजी आक्रमण
भी दो स्पिनर और दो तेज गेंदबाजों का रह सकता है। आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने नागपुर में आठ और लेफ्ट अार्म स्पिनर रवींद्र जडेजा ने पांच
विकेट लिए थे। तेज गेंदबाज इशांत शर्मा ने पांच और उमेश यादव ने दो विकेट चटकाए थे ।
इशांत का तो दिल्ली वैसे भी घरेलू मैदान है। कोलकाता के बाद यह उम्मीद जताई जा रही थी कि नागपुर और दिल्ली में तेज गेंदबाजों को मदद
मिलेगी। लेकिन नागपुर में स्पिनरों को भी अच्छी मदद मिली और श्रीलंकाई बल्लेबाजों के पास भारतीय स्पिन जोड़़ी का कोई तोड़ नहीं था। अश्विन इस मैदान पर वैसे भी काफी सफल रहे हैं। उन्होंने यहांतीन मैचों में 23 विकेट हासिल किये हैं। सबसे तेज 300 विकेट पूरे करने कानया रिकॉर्ड बना चुके अश्विन ने यहां दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2015 मेंखेले गए पिछले मुकाबले में 337 रन की जीत में कुल सात विकेट हासिल कियेथे जबकि जडेजा ने भी सात विकेट चटकाए थे। राजधानी का सुबह जैसा ठंडा मौसमचल रहा है और फिर धूप खिल रही है ऐसे में तेज गेंदबाजों के साथ साथस्पिनरों को भी मदद मिलने की उम्मीद है।
श्रीलंकाई टीम को इस मुकाबले में वापसी करने के लिए अपनासर्वश्रेष्ठ देना होगा। कोलकाता की पहली पारी को छोड़ दिया जाए तो मेहमानटीम इसके बाद लगातार संघर्ष करती रही है। लेफ्ट आर्म स्पिनर रंगना हेरातके आखिरी मैच से बाहर हो जाने से श्रीलंका की चिंता और बढ़ा दी है। उनकीजगह लेग स्पिनर जेफ्री वेंडरसे को टीम में शामिल किया गया है जो टेस्टमें अपना पदार्पण कर सकते हैं।
श्रीलंका यदि वेंडरसे को मुकाबले में उतारता है तो वह नए होनेके कारण भारतीयों को परेशान कर सकते हैं। श्रीलंका की तेज और स्पिनगेंदबाजी भारतीय बल्लेबाजों के सामने बौनी नजर आ रही है। श्रीलंकाई टीमप्रबंधन को कुछ अतिरिक्त प्रयास करने की जरुरत है ताकि वे भारत के सामनेचुनौती पेश कर सके।
केवल गेंदबाजी ही नहीं बल्लेबाजी भी श्रीलंका का कमजोर पक्षसाबित हुई है। हालत यह है कि कई पूर्व भारतीय दिग्गज सवाल उठा रहे हैं किऐसी टीम के साथ सीरीज रखे जाने की क्या जरुरत है। श्रीलंका के अनुभवीबल्लेबाजों दिमुथ करूणारत्ने, लाहिरू तिरिमाने, एंजेलो मैथ्यूज और कप्तानदिनेश चांडीमल को विकेट पर समय गुजारना होगा तभी जाकर मेहमान टीम कुछसंघर्ष कर पाएगी।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar