न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

फिल्म ‘पद्मावती’ के विरोध में उतरे अधिवक्ता

फरीदाबाद। बालीवुड की बहुचर्चित फिल्म ‘पद्मावती’ के विरोध में अब फरीदाबाद के अधिवक्ताओं ने भी आवाज बुलंद कर दी है। आज जिला अदालत परिसर में एकत्रित होकर अधिवक्ताओं ने जिला उपायुक्त के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंप उक्त फिल्म को रिलीज न किए जाने की मांग की। इस मौके पर बाार कॉउसिल पंजाब एण्ड हरियाणा अनुशासन व निगरानी कमेटी के मनोनीत सदस्य शिवदत्त वशिष्ठ एडवोकेट ने कहा कि कुछ विकृत सोच के लोग निजी स्वार्थ व लोभ के कारण बार-बार हिन्दु इतिहास व भारतीय संस्कृति से छेड़छाड़ कर रहे है।

प्रदेश सरकार से की फिल्म को रिलीज न होने देने की मांग

फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाए। संजय लीला भंसाली ने माता पदमावती के पवित्र इतिहास से छेड़छाड़ कर पैसे की लालच में फिल्म बना दी जो बिल्कुल अनुचित है व भारत के इतिहास के खिलाफ है। वरिष्ठ अधिवक्ता कुवंर दलपत सिंह कहा कि फिल्म को बना कर भंसाली ने भारतीय संस्कृति पहलुओ का हनन करने का प्रयास किया है, जो बर्दाश्त करने योग्य नही है। इसका अधिवक्तागण समस्त हिन्दु समाज पूर्ण रूप से बहिष्कार करता है। भंसाली को इतिहास के बारे में ज्ञान नही है कि रानी पदमावती ने सौलह हजार स्त्रियो के साथ जौहर किया था इतिहास इस बात का गवाह है। अधिवक्ताओं ने कहा कि इस फिल्म को रिलिज किया गया तो अधिवक्तागण इसे भारत के इतिहास के खिलाफ मानेंगेे। प्रदेश सरकार को तुरन्त ऐसी फिल्म को रिलीज नही होने देना चाहिए और तुरन्त पाबन्दी लगा देनी चाहिए। इस फिल्म के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली ने इतिहास के साथ छेड़ छाड़ की है, इसे भारत के स्र्वणिम इतिहास का ज्ञान नही है। इस मौके पर सतीश चौहान, सुरेन्द्र शर्मा, गिर्राज, अवदेश, अनिल तोमर, संजय दीक्षित, प्रेम चन्द, हरि राम, मुकेश शर्मा, विजय यादव, सतपाल नागर, कुलदीप जोशी, पवन कौशिक, अफाक खान, कमल भाटी, बिल्लू धनकड, सोनू भारद्वाज, विपिन वर्मा, सोनू सुमन, नरेन्द्र, सूरज, अवदेश, महेन्द्र आदि मौजूद थे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar