National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

फिल्म समीक्षा : ‘शेफ’

फिल्म का नाम: शेफ
डायरेक्टर: राजा कृष्णा मेनन
स्टार कास्ट: सैफ अली खान, स्वर कांबले, पद्मप्रिया जानकीरमन, दिनेश प्रभाकर, चन्दन रॉय सान्याल
अवधि:2 घंटा 14 मिनट
सर्टिफिकेट: U/ा
रेटिंग: 3 स्टार

साल 2014 में अमेरिकन कॉमेडी ड्रामा ‘शेफ’ आई थी जिसमें जॉन फावेरु की मौजूदगी ने फिल्म को चर्चा का विषय बना दिया था, उस फिल्म की शुरुआत 6 थिएटर्स से हुई थी और आगे चलकर फिल्म अमेरिका में ही 1298 थिएटर्स में लगाई गई. फिल्म ने अमेरिका के साथ साथ विदेश में भी भरपूर कमाई की. उसके बाद फिल्म की अडॉप्टेशन के साथ अब उसका हिंदी वर्जन भी बनाया जा चुका है जिसे ‘एयरलिफ्ट’ जैसी फिल्म के डायरेक्टर राजा कृष्णा मेनन ने डायरेक्ट किया है. अगर इस फिल्म को देखने का प्लान बना रहे हैं तो जानें, कैसी है फिल्म की कहानी.

कहानी
यह कहानी दिल्ली के चांदनी चौक के रहने वाले रोशन कालरा (सैफ अली खान) की है जिसे बचपन से ही खाना बनाने का शौक था और ये बात उसके पिताजी को बिल्कुल पसंद नहीं थी. यही कारण है कि रोशन अपने घर से भागकर न्यूयॉर्क चला जाता है और वहां के गली किचन नामक रेस्टॉरेंट में शेफ के रूप में काम करने लगता है. उसकी शादी राधा मेनन (पद्मप्रिया जानकीरमन) से हुई है और दोनों का एक बेटा अरमान (स्वर कांबले) भी है, लेकिन अब राधा और रोशन के बीच तलाक हो गया है. दोनों अलग रहते हैं. अरमान अपनी मां के साथ केरल में रहता है वहीं रोशन कालरा न्यूयॉर्क में. रोशन के साथ न्यूयॉर्क में कुछ ऐसा होता है जिसकी वजह से उसे वापस भारत आना पड़ता है और वो केरल जाकर अपने बेटे के साथ कुछ वक्त बिताता है. उसी दौरान चलती फिरती ट्रक के ऊपर वो दोबारा से अपने शेफ के काम को शुरू करता है. कहानी में ट्विस्ट और टर्न्स तब आते हैं जब बीजू (मिलिंद सोमन) की एंट्री होती है. आखिरकार क्या होता है, इसका पता आपको फिल्म देखकर ही चलेगा.

क्यों देखें फिल्म

  • – फिल्म की कहानी सिंपल है लेकिन अलग है, पिता पुत्र के रिश्ते के साथ ही अलगाव के ऊपर भी ये फिल्म एक मैसेज दे जाती है जिससे कनेक्ट करना आसान है.
  • – फिल्म का स्क्रीनप्ले बढ़िया है जिसके लिए लेखक की तारीफ़ होनी चाहिए. फिल्म का बैकड्रॉप काफी कलरफुल है जो आपको केरल की खूबसूरती के साथ ही अमृतसर, दिल्ली और न्यूयॉर्क का माहौल भी दर्शाता है.
  • – फिल्म में सैफ अली खान एक बार फिर से अपने स्टाइलिश अवतार में दिखाई देते हैं और पिता के साथ ही सोचने वाले पति का किरदार भी बखूबी निभाते हैं. साउथ की मशहूर अभिनेत्री पद्मप्रिया भी इस फिल्म में बहुत ही सहज अभिनय करती हुई दिखाई देती हैं और वहीँ बेटे के रूप में स्वर कांबले ने बढ़िया काम किया है.
  • – अभिनेता चन्दन रॉय सान्याल ने भी सह कलाकार के किरदार को अच्छे से निभाया है और कई सारे हंसी के पल आपके सामने लाते हैं. मिलिंद सोमन का छोटा लेकिन अच्छा किरदार हैं.
  • – फिल्म का संगीत अच्छा है और रघु दीक्षित का गाया हुआ गाना शुगल लगा ले भी बढ़िया है. बैकग्राउंड स्कोर भी कहानी के संग चलता है. फिल्म की अच्छी बात ये है कि यह आपके काम और पर्सनल लाइफ के लिए आई ओपनर का काम करती है.

कमजोर कड़ियां
फिल्म का ट्रीटमेंट अर्बन स्टाइल का है जिसकी वजह से शायद यह हर तबके को पसंद ना आए. फिल्म में टिपिकल मसाला नहीं परोसा गया है जो शायद मसाला वाली फिल्मों के प्रेमियों को अच्छा ना लगे. फिल्म का क्लाइमेक्स भी प्रेडिक्ट किया जा सकता है, जिसे बदला जाता तो कहानी और सटीक हो जाती.

बॉक्स ऑफिस
फिल्म का बजट 30-40 करोड़ बताया जा रहा है. इसके डिट्रिब्यूशन राईट्स, डिजिटल और लाइव स्ट्रीमिंग राईट्स पहले ही बेचे जा चुके हैं, जिस लिहाज से फिल्म की रिकवरी आसान है. फिल्म को 1000 से ज्यादा स्क्रीन में रिलीज किया जा रहा है.

 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar