न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

बिना टिकट यात्रियों के विरूद्ध उत्तर पश्चिमी  रेलवे चला रहा अभियान

 

जून माह में किलाबंदी जाँच कर 30 लाख 50 हजार रूपये की वसूली की

जयपुर। बिना टिकट यात्रा करने पर लगाम कसने की कड़ी में उत्तर पश्चिमी रेलवे लगातार सघन जाँच अभियान चला रहा है। ग्रीष्मकालीन अवकाष होने से उत्तर पश्चिमी रेलवे पर यात्री भार अधिक होने के कारण इन अभियानों में गति लाई गई जिससे जून माह में ही रू0 30,49,015 का राजस्व प्राप्त किया गया। उत्तर पश्चिमी रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी श्री तरूण जैन के अनुसार उत्तर पष्चिम रेलवे के चारों मण्डलों अजमेर, बीकानेर, जोधपुर एवं जयपुर पर सभी रेलखण्डों में टिकट जाँच अभियान चलाये जा रहे है, जिनमें उत्तर पश्चिमी  रेलवे मुख्यालय के वाणिज्य विभाग के अधिकारियों ने भी मण्डल अधिकारियों के साथ हिस्सा लिया। जून माह में बीकानेर मण्डल पर 11 किलाबंदी जाँच की गई जिनमें बिना टिकट यात्रा के 2091 प्रकरण पकड़कर उनसे 6,86,495 वसूले गये। इसी प्रकार बिना बुक किये माल ले जाने के 42 मामलों में 5610 की वसूली की गई। जून माह में ही अजमेर मण्डल पर 11 फोट्र्रेस चैक में बिना टिकट यात्रा के 2170 मामले पकड़ में आये जिनमें  7,94,800 की जुर्माना सहित राषि वसूल की गई। जयपुर मण्डल पर 11 किलाबंदी जाँच की गई, जिनमें बिना टिकट के 2753 तथा बिना बुक किये माल के 62 मामले पकड़ में आये जिनसे  10,15,250 तथा 8320 की राषि वसूल की गई। जोधपुर मण्डल पर 11 किलाबंदी तथा क्राॅसकन्ट्री जाँच के दौरान 1625 बिना टिकट यात्रा करते हुए यात्री पकड़े गये, जिनसे 5,52,470 की राषि वसूल की गई तथा 68 बिना बुक किये माल ले जाने के मामलों में 3,960 वसूले गये।श्री तरूण जैन के अनुसार टिकट जाँच अभियानोें का मुख्य उद्देष्य बिना टिकट यात्रा को हतोत्साहित करना है। टिकट जाँच अभियान में अनेक प्रकार के चैक किये जाते है, जिनमें किलाबंदी जाँच, एम्बुष चैक, बस रेड आदि प्रमुख हैं। गत जून माह में इस अभियान में किलाबंदी प्रकार के जाँच पर अधिक जोर दिया गया। किलाबंदी जाँच में रेलवे के वाणिज्य तथा रेलवे सुरक्षा बल विभाग संयुक्त कार्यवाही करते हुए ट्रेन की आकस्मिक जाँच करते है, इसमें पूरी गाड़ी को घेर लिया जाता है, जिससे बिना टिकट यात्रा कर रहे व्यक्ति के लिए भाग निकलना मुष्किल होता है। बिना टिकट यात्रा करते हुए या बिना बुक कराये माल के पकड़े जाने पर यात्री से देय प्रभार के साथ-साथ जुर्माना भी वसूला जाता है। यात्री द्वारा जुर्माना राषि नहीं अदा करने पर उसके खिलाफ भारतीय रेल अधिनियम, 1989 के तहत कानूनी कार्यवाही की जाती है, जिसमें जुर्माने के साथ-साथ सजा का भी प्रावधान है। विभिन्न संस्थानों तथा षिक्षण संस्थानों में ग्रीष्मकालीन अवकाष के कारण रेलवे पर यात्री भार अधिक हो जाता है। ऐसे में टिकटधारी यात्रियों के हितों की रक्षा करने तथा बिना टिकट यात्रा से होने वाले राजस्व क्षति को रोकने के लिए टिकट जाँच अभियान चलाये जाते है। श्री जैन ने बताया कि रेल परिसर एवं रेलगाड़ी में गंदगी फैलाने तथा धूम्रपान करने वालों के खिलाफ भी जाँच अभियान निरंतर चलाये जा रहे है। यात्रियों को बेहतर सुविधा देने तथा अवैध यात्रा तथा माल ले जाने वाले यात्रियों पर लगाम लगाने के लिए सघन टिकट जाँच अभियान भविष्य में भी जारी रहेंगे।

 

 

 

 

 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar