National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

भाजपा ने दो निकाय गंवाए, कांग्रेस को छह का फायदा

भोपाल। विधानसभा चुनाव के पहले सत्ता का सेमीफाइनल माने जा रहे नगरीय निकाय के चुनाव भाजपा और कांग्रेस के लिए संतोष का सबब रहे। भाजपा ने जहां 25 सीटों पर जीत का परचम लहराया, वहीं कांग्रेस ने वापसी करते हुए 15 जगह पर जीत हासिल की। निर्दलियों के खाते में सिर्फ तीन निकाय रहे। 2012 में हुए चुनाव में भाजपा ने 27, कांग्रेस ने 9, बसपा ने 1 और निर्दलियों ने 6 स्थानों पर जीत हासिल की थी। इस हिसाब से देखा जाए तो फायदे में कांग्रेस ही रही है। ये स्थिति भी तब है जब मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कई सभाएं और रोड शो किए।

नगर पालिका

नगर पालिका चुनाव में भाजपा-कांग्रेस बराबर की स्थिति में रही। छह सीटों पर भाजपा तो छह पर कांग्रेस ने कब्जा जमाया। दो सीटों पर निर्दलीय उम्मीदवार जीते।

नगर परिषद

इसी तरह नगर परिषद के चुनाव में भाजपा 16, कांग्रेस 6 और एक निर्दलीय ने जीत हासिल की।

सीएम ने 30 जगह प्रचार किया, 13 जगह हारे

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने करीब हफ्ते भर तक नगरीय निकायों में धुआंधार चुनाव प्रचार किया था। 43 में से शिवराज 30 क्षेत्रों में चुनाव प्रचार के लिए गए, जिनमें से 13 में भाजपा चुनाव हार गई।

ये परिणाम रहे चौंकाने वाले

सिवनी से निर्दलीय विधायक दिनेश राय ‘मुनमुन’ के भाई जितेंद्र राय लखनादौन से निर्दलीय चुनाव जीते। अध्यक्ष को लेकर हुए उपचुनाव में कांग्रेस सनावद में कब्जा बरकरार रखने में कामयाब रही, तो भाजपा ने डबरा में जोरदार जीत हासिल कर एक सीट का इजाफा किया।

कब्जा रखा बरकरार

गाडरवाड़ा और शमशाबाद में कांग्रेस कुर्सी बचाने में कामयाब रही। यहां अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाया गया था, लेकिन जनता ने इसे नकारकर मौजूदा अध्यक्षों पर ही भरोसा जताया है।

डबरा में रिकॉर्ड तोड़ जीत

43 निकायों के चुनाव में सर्वाधिक दस हजार मतों से भाजपा ने कांग्रेस को पटखनी दी। डबरा में कांग्रेस प्रत्याशी तीसरे स्थान पर रहा। बसपा ने नंबर दो की हैसियत हासिल की।

मालवा-निमाड़ में 9 पर भाजपा, 5 पर कांग्रेस

मालवा-निमाड़ 14 सीटों में से 9 स्थानों पर भाजपा और 5 पर कांग्रेस विजयी रही है। पिछली बार के नतीजे कमबेश यही थे। हालांकि झाबुआ नपा अध्यक्ष पद कांग्रेस ने जीत लिया है। यहां कांग्रेस का 20 साल पुराना वनवास खत्म हुआ। यहां 4 बार भाजपा की परिषद रहने और इसके बीच 2 साल “ङशासक रहने के बाद कांग्रेस ने अध्यक्ष सहित 9 वार्डों में जीत दर्ज की।

कांग्रेस ने भाजपा से 9 और भाजपा ने कांग्रेस से 4 सीटें छीनी

2012 में हुए निकाय चुनाव भाजपा ने जिन निकायों में जीत हासिल की थी, उनमें 9 इस बार उसके हाथ से छिटक गए। मंडला, निवास, बैहर, शहपुरा, जुन्नारदेव, दमुआ, मोहगांव, झाबुआ और महेश्वर में भाजपा काबिज थी, लेकिन अब यहां कांग्रेस के अध्यक्ष जीते हैं। कांग्रेस ने निर्दलीय से सैलाना सीट छीनी है। इसी तरह भाजपा ने कांग्रेस शासित हर्रई, मंडलेश्वर, राणापुर और आठनेर निकाय में जीत हासिल की और नैनपुर, बम्हनीबंजर, छनेरा व जयसिंहनगर में निर्दलियों को अध्यक्ष पद से बाहर का रास्ता दिखाया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar