National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

भिंड न्यायालय में पेश नहीं हुए मंत्री लाल सिंह आर्य

भिंड। मध्यप्रदेश के भिण्ड जिले के गोहद से कांग्रेस विधायक माखनलाल जाटव हत्याकांड में आरोपी प्रदेश सरकार के राज्यमंत्री लालसिंह आर्य कल भिण्ड की विशेष अदालत में पेश नहीं हुए। उनकी अग्रिम जमानत याचिका 31 अक्टूबर को निरस्त होने के बाद 10 नवंबर को उन्हे न्यायालय में पेश होने के आदेश दिए गये थे।
विशेष न्यायालय ने अब पांच दिसंबर तारीख तय की है और मंत्री लाल सिंह आर्य के खिलाफ फिर से 25 हजार रुपए का जमानती वारंट जारी किया है। खास बात यह है मंत्री लाल सिंह आर्य कल 12 नवंबर को दंदरौआ धाम में भागवत कथा में और उसके बाद भिण्ड आएंगे। पुलिस चाहे तो वारंट तामील करा सकती है।
जिले के गोहद विकासखण्ड के एण्डोरी थाना क्षेत्र केे छरेंटा गांव में 13 अप्रैल 2009 को गोहद से कांग्रेस विधायक माखनलाल जाटव की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। विधायक हत्याकांड में पुलिस ने सुरक्षा गार्ड शिवराज सिंह की रिपोर्ट पर आरोपी नारायण शर्मा, शेर सिंह, मेवाराम, सेठी कौरव, गंधर्व सिंह, केदार सिंह, तेजनारायण शर्मा (मृत्यु हो चुकी), रामरूप सिंह गुर्जर को आरोपी बनाया था।
विशेष न्यायालय ने पहले 19 मई को प्रदेश सरकार के मंत्री लाल सिंह आर्य को कांग्रेस विधायक माखन लाल जाटव हत्याकांड में आरोपी बनाया था, लेकिन मंत्री लाल सिंह आर्य ग्वालियर हाईकोर्ट गए तो हाईकोर्ट ने स्पेशल कोर्ट के फैसले को निरस्त कर दोबारा से सुनवाई के लिए कहा। इस दौरान मंत्री आर्य की ओर से सुप्रीम कोर्ट में विशेष याचिका दाखिल की गई। सुप्रीम कोर्ट ने भिण्ड कोर्ट के फैसले को सही माना। इससे 24 अगस्त को भिण्ड की स्पेशल कोर्ट ने राज्यमंत्री लाल सिंह आर्य को आरोपी बनाते हुए 25 हजार रुपए का जमानती वारंट जारी किया था।
मंत्री आर्य के वकील की ओर से कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दाखिल की गई थी, जिसे कोर्ट ने 31 अक्टूबर को निरस्त कर दिया था और पेशी के लिए 10 नवंबर की तारीख तय की थी।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar