न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

मणिशंकर अय्यर कांग्रेस से निलंबित

नयी दिल्ली . कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करने पर वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर को आज पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया और उन्हें कारण बताओ नोटिस जारी किया है।

कांग्रेस के मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सिंह सुरजेवाला ने आज रात ट्वीट कर कहा कि पार्टी ने विरोधियों के प्रति सम्मान की भावना दर्शाते हुए श्री अय्यर को निलंबित कर दिया है। उन्होंने सवाल किया कि क्या श्री मोदी भी कभी इस तरह का साहस दिखा सकते हैं। उन्होंने लिखा, “ यही है कांग्रेस का गांधीवादी नेतृत्व व विरोधी के प्रति सम्मान की भावना। कांग्रेस पार्टी ने श्री मणिशंकर अय्यर को कारण बताओ नोटिस जारी कर प्राथमिक सदस्यता से निलम्बित कर दिया है। क्या मोदी जी कभी यह साहस दिखाएँगे?”

श्री अय्यर ने आज दिन में श्री मोदी पर अभद्र टिप्पणी करते हुए उन्हें ‘नीच’ और ‘असभ्य’ कहा था। श्री अय्यर की इस टिप्पणी पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने उनसे माफी मांगने को कहा था जिसके बाद श्री अय्यर ने यह कहते हुए माफी मांगी कि हिंदी भाषी नहीं होने की वजह से उन्होंने ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल कर दिया।
कांग्रेस सूत्रों के अनुसार श्री गांधी माफी मांगने के श्री अय्यर के तरीके से संतुष्ट नहीं हैं और इसी वजह से उन्हें पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित करने के साथ ही कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज ही राजधानी में डॉ. अंबेडकर अंतरराष्ट्रीय केन्द्र के उद्घाटन के मौके पर अपने संबोधन में कांग्रेस और नेहरू-गांधी परिवार का नाम लिये बगैर आरोप लगाया कि ‘एक परिवार’ को आगे बढ़ाने के लिए संविधान निर्माता डा. भीमराव अम्बेडकर का नाम और काम मिटाने का प्रयास किया गया। उन्होंने श्री गांधी पर भी कटाक्ष किया था कि अब उन्हें बाबा साहेब की जगह ‘बाबा भोले’ याद आ रहे हैं।
इस पर श्री अय्यर ने कहा था कि बाबा साहेब अंबेडकर के सपनों को साकार करने में सबसे बड़ा योगदान पंडित जवाहरलाल नेहरू का रहा है और श्री मोदी ऐसे परिवार के बारे में ‘गंदी’ बातें कर रहे हैं और वह भी डा. अंबेडकर की याद में बनायी गयी इमारत का उद्घाटन करते समय। उन्होंने श्री मोदी पर बेहद आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा “यह बहुत नीच किस्म का आदमी है। इसमें कोई सभ्यता नहीं है। ऐसे मौके पर इस किस्म की गंदी राजनीति करने की क्या आवश्यकता है।” श्री अय्यर की इस टिप्पणी के बाद प्रधानमंत्री ने गुजरात के सूरत में एक चुनावी सभा में कांग्रेस को निशाने पर ले लिया और इस टिप्पणी को कांग्रेस की हताशा और ‘सल्तनती और मुगलिया’ मानसिकता का परिचायक बताया। उन्होंने लोगों से सामान्य रूप से अथवा ट्विटर या अन्य सोशल मीडिया पर श्री अय्यर के खिलाफ अपशब्दों में जवाबी हमले नहीं करने की अपील की और साथ ही कहा कि वे ‘प्रधानमंत्री एवं गुजरात के बेटे’ के खिलाफ ऐसी अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करने का बदला चुनाव के जरिये लें। उन्होंने एक ट्वीट भी किया, “कांग्रेस के ‘बुद्धिमान’ नेता ने मुझे ‘नीच’ कहा है, जिस पर मुझे कुछ नहीं कहना है। यह कांग्रेस की सोच है। उनके पास उनकी भाषा है और हमारे पास हमारा काम है। लोग उन्हें वोट के जरिये जवाब दे देंगे।”
श्री गांधी ने श्री अय्यर की टिप्पणी पर ट्वीट कर कहा कि वह उनकी भाषा और लहजे को सही नहीं मानते। उन्होंने कहा, “कांग्रेस की अपनी अलग संस्कृति अौर विरासत है इसलिए मैं श्री अय्यर द्वारा प्रधानमंत्री के खिलाफ इस्तेमाल की गयी भाषा और लहजे को स्वीकार नहीं करता। मैं और कांग्रेस पार्टी दोनों उम्मीद करते हैं कि वह इसके लिए माफी मांगेंगे।”
इसके बाद श्री अय्यर ने सफाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री ने बाबा साहेब अम्बेडकर के नाम पर बने केन्द्र के उद्घाटन के अवसर पर कांग्रेस और श्री गांधी पर तीखी टिप्पणियां क्यों की? उन्होंने कहा, “मैं फ्रीलांस कांग्रेसी हूं, पार्टी में मैं किसी पद पर नहीं हूं, पार्टी का प्रवक्ता नहीं हूं, इसलिए प्रधानमंत्री को मैं उनकी भाषा में जवाब दे सकता हूं।”
इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह हिंदी भाषी नहीं है और अंग्रेजी के शब्दों का मन में अनुवाद कर हिंदी बोलते हैं। उन्होंने ‘नीच’ शब्द का इस्तेमाल अंग्रेजी के ‘लो’ शब्द के लिए किया है। यदि उनके द्वारा इस्तेमाल किए गये शब्द का कोई और अर्थ निकलता है तो वह इसके लिए ‘माजरत’(माफी मांगते) करते हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar