National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

महर्षि दयानंद सही मायनों में सच्चे समाज सुधारक : बीरेंद्र सिंह

डीएवी शताब्दी में आयोजित कार्यक्रम में केंद्रीय इस्पात मंत्री ने की शिरकत

फरीदाबाद।  केंद्रीय इस्पात मंत्री चौधरी बीरेंद्र सिंह ने महर्षि दयानंद को सही मायनों में सच्चा समाज सुधारक बताया है। उन्होंने कहा कि सामाजिक बुराइयों के खिलाफ बहुत से लोग बात करते हैं, पर जो हिम्मत महर्षि दयानंद ने दिखाई और सामाजिक बुराइयों का खात्मा करने में सफल रहे, उसका दूसरा उदाहरण कोई और नहीं मिलता। केंद्रीय मंत्री राष्ट्रीय चेतना शक्ति व डीएवी शताब्दी कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित दसवें महर्षि दयानंद मेमोरियल व्याख्यान को मुख्य अतिथि के रूप में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने स्वामी दयानंद की सोच को कार्ल मार्क्स से भी आगे से बताते हुए कहा कि स्वामी जी असाधारण प्रतिभा के धनी थे और समाज में एक नई सोच पैदा की। उनके विचारों के जरिए आर्य समाज लोगों के बीच नई जागृति लाने में सफल रहा। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि देश के नागरिकों को खुली आंखों से किसी भी सरकार की नीतियों को देखने और समझने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश जिस दिशा में आगे बढ़ रहा है, उससे आर्थिक रूप से असमानताएं बढ़ रही हैं। यह किसी भी देश के लिए घातक है। जन-धन योजना का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि मोदी सरकार से पहले तक देश में 52 हजार बैंकों की शाखाएं थी और देश की आबादी 130 करोड़ है। अगर पांच सदस्यों का भी एक परिवार हो, तो 26 करोड़ परिवार बनते हैं और इस तरह 26 करोड़ खाते तो होने चाहिए, पर खाते सिर्फ 3.40 करोड़ थे। पीएम मोदी की सोच से जन-धन खाते खुले और करोड़ों लोग बैंङ्क्षकग और अर्थव्यवस्था का हिस्सा बने। उन्होंने कहा कि हमें देश हित में अपनी-अपना की सोच को त्यागना होगा। समारोह को वाइएमसीए यूनिवर्सिटी के कुलपति डॉ.दिनेश अग्रवाल, संयोजक सुखबीर ङ्क्षसह ने भी संबोधित किया। मेजबान कॉलेज के प्राचार्य डॉ.सतीश आहूजा ने सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया। समारोह में पूर्व विधायक राजेंद्र ङ्क्षसह बीसला, ऋचा तंवर, मेजर जनरल एसके दत्त, पूर्व अतिरिक्त उपायुक्त पुष्पेंद्र चौहान, वरिष्ठ भाजपा नेता तेजपाल नैन,चौधरी चांद ङ्क्षसह, नगर निगम के पूर्व संयुक्त आयुक्त एसएस दलाल, प्रताप मलिक, सतप्रकाश अरोड़ा, एमपी जैन, मुकेश डागर मौजूद थे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar