National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

महिला पहलवान इसलिए नहीं रख रहीं लंबे बाल

चंडीगढ़ । आजकल कुश्ती में भी लड़कियों की रुचि बढ़ रही है। यही कारण है कि हरियाणा के हांसी के गांव उमरा में भी महिला पहलवानों ने अपने सिर के बाल पूरी तरह से ही मुंडवा लिए हैं जबकि इसके लिए इन पहलवानों पर किसी ने भी दबाव नहीं बनाया है। इसका कारण है खेल के प्रति इनका जुनून। इन महिला पहलवानों ने कहा कि खेलते समय राउंड के बीच में 30 सेकेंड का समय मिलता है। महिला रेसलरों ने कहा कि बाल बड़े हों तो उन्‍हें ठीक करने में ही 30 सेकंड निकल जाते हैं और कोच की ट्रिक से ध्‍यान भटक जाता है। इसलिए सभी ने सिर के बाल मुंडवाने का फैसला लिया।
3-3 मिनट के मुकाबले में मिलने वाले 30 सेकंड के आराम में वे बालों को सुलझाने में ही लगी रहती थीं। इतने कम वक्त में उन्हें कूल और तरोताजा होने का समय नहीं मिल पाता था। मैच के दौरान भी चोटी और बड़े बाल बाधा बनते थे। महिला खिलाड़ियों की इस तकनीकी सोच के बेहतर परिणाम सामने आ रहे हैं। गांव की चार बेटियों ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पदक जीते हैं। रेसलर मंजू ने 2016 में सीनियर कॉमनवेल्थ सिंगापुर में 58 किलोग्राम वर्ग में गोल्ड और प्रो रेसलिंग में भी मेडल जीता था। वहीं, मोनिया 2018 में दक्षिण अफ्रीका में कॉमनवेल्थ में गोल्ड जीत चुकी है। 100 से ज्यादा बच्चों ने नेशनल लेवल पर पदक जीते हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar