National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

मानवाधिकारों के सम्मान के बिना स्थायी शांति या सतत विकास असंभव : फारूक

श्रीनगर । कानून के पालन और मानवाधिकार के सम्मान के बिना स्थिर शांति या टिकाऊ विकास असंभव है। यह बात विश्व मानवाधिकार दिवस पर अपने संदेश में श्रीनगर से सांसद अब्दुल्ला ने कही है। उन्होंने कहा कि इंसान के बुनियादी मानवाधिकार में शिक्षा का अधिकार, एकत्र होने का अधिकार, किसी भी धर्म को मानने का अधिकार और सबसे ऊपर गरिमामयी जीवन का अधिकार शामिल है। उन्होंने कहा, ‘नेशनल कांफ्रेंस में यह सुनिश्चित करना हमारे ऊपर है कि हमारे राज्य के लोगों को ये सभी बुनियादी अधिकार मिलें। नया कश्मीर प्रगतिशील विचारधारा में ये सभी अधिकार अंतर्निहित हैं और हमारा नेतृत्व लोगों के सभी अधिकार सुनिश्चित करने के लिए कठिन मेहनत कर रहा है।’ नेशनल कांफ्रेंस के अध्यक्ष ने कहा कि और अधिक न्यायोचित, सुरक्षित तथा शांतिपूर्ण दुनिया के लिए हमारी उम्मीदें तभी पूरी हो सकती है, जब सभी मनुष्यों की गरिमा और समान अधिकार का सम्मान हो।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar