National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल ने मनाया सालाना महोत्सव -‘एक्ज़बरेंस 2017’

नई दिल्ली। मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल, सेक्टर 51, गुरूग्राम ने आज नई दिल्ली के सिरी फोर्ट सभागार में पूरे जोश और उत्साह के साथ अपना सालाना महोत्सव ‘एक्ज़बरेंस 17’ मनाया।
कार्यक्रम की शुरूआत माननीय अतिथि मधु आज़ाद (गुरूग्राम महापौर) ने दीप प्रज्जवलन के साथ की, इस मौके पर चेयरमैन श्री राजेश कालरा, कार्यकारी निदेशक श्री गौरव राय, स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमती पूजा पुरी तथा एमआरआईएस-51 गुरूग्राम एवं लुधियाना से अन्य दिग्गज अतिथि भी शामिल थे। स्कूल की प्रिंसिपल श्रीमती पूजा पुरी ने मेहमानों का अभिवादन किया तथा पिछले सत्र के लिए स्कूल की सालाना रिपोर्ट प्रस्तुत की। उन्होंने अकादमिक एवं पाठ्येत्तर क्षेत्रेां में स्कूल एवं छात्रों की कामयाबियों के बारे में बताया तथा छात्रों को उज्जवल भविष्य के लिए शुभकामनाएं दीं।

राजेश कालरा (चेयरमैन- एमआरआईएस गुरूग्राम और लुधियाना), अशोक आज़ाद (भाजपा नेता), सुरेश चैधरी (सामाजिक कार्यकर्ता), मधु आज़ाद (गुरूग्राम महपौर), आशा लाजपत राय (वाईस चेयरपर्सन), शिखा कालरा (ट्रस्टी- एमआरआईएस), गौरव राय (कार्यकारी निदेशक-एमआरआईएस, गुरूग्राम और लुधियाना

इस मौके पर गुरूग्राम के महापौर मधु आज़ाद ने कहा, ‘‘छात्रों का उत्साह देखकर बहुत अच्छा लगता है, उन्होंने संगीत के माध्यम से अपनी भावनाओं को व्यक्त किया। स्कूल के छात्र बेहद उर्जावान एवं सक्रिय हैं। हम उनके उज्जवल भविष्य की कामना करते हैं।’’
कार्यक्रम की शुरूआत एक प्रार्थना नृत्य के साथ हुई, जिसके बाद स्कूल गीत -‘द वेव्स’ का प्रदर्शन हुआ। इसके बाद स्कूल आॅर्केस्ट्रा ’रेज़ोनेन्स’ ने विशेष परफोर्मेन्स ‘तरंग’ दिया। सालाना महोत्सव का ये जश्न छात्रों की भवनाओं, जोश, उत्साह और जीवंतता से परिपूर्ण था। स्कूल के छात्रों ने अद्भुत संगीत प्रदर्शन के माध्यम से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया।
स्कूल की यात्रा पर अपने विचार अभिव्यक्त करते हुए मानव रचना इंटरनेशनल स्कूल गुरूग्राम की प्रिंसिपल श्रीमती पूजा पुरी ने कहा, ‘‘एमआरआईएस में हम कामयाबी पाकर रुकते नहीं है, बल्कि चरम सफलता तक पहुंचने के लिए अपने प्रयासों को जारी रखते हैं। आने वाले समय में हम कामयाबी और प्रगति की नई ऊँचाईयों तक पहुंचने के लिए प्रयास जारी रखेंगे।’’
‘भावनाएं तरंगों की तरह होती हैं। हम उन्हें आने से रोक नहीं सकते, लेकिन हम उनमें से अनुकूल तरंगों का चुनाव कर सकते हैं।’’
भावनाओं से पूर्ण नाटक ‘रास तरंग’ सभी के लिए आकर्षण केन्द्र बन गया, जो डांस और ड्रामा का अद्भुत संयोजन था। संगीत यात्रा ‘रास तरंग- द वेव्स आॅफ इमोशन्स’ ने छात्रों को अपनी भावाओं को व्यक्त करने का अवसर प्रदान किया। यह दिल को छू जाने वाले दृश्यों की एक अनूठी यात्रा था, जिसे छात्रों ने नाटक के ज़रिए प्रस्तुत किया। एक घंटे के इस सांस्कृतिक शो को देखकर सभी दर्शक विस्मित हो गए।
कार्यक्रम का समापन एक प्रसिद्ध गीत ‘लैट इट गो’ के साथ हुआ, जिसके बाद मौजूद अतिथियों एवं दर्शकों के प्रति आभार व्यक्त किया गया। कार्यक्रम सही मायनों में प्रतिभा और उत्साह का अनूठा संयोजन था।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar