न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

मूवी रिव्यू : शुभ मंगल सावधान

कलाकार : आयुष्मान खुराना, भूमि पेडनेकर, ब्रजेंद्र काला, सीमा पाहवा
निर्देशक : आर.एस. प्रसन्ना
मूवी टाइप : रोमांटिक कॉमेडी
अवधि : 1 घंटा 48 मिनट

मर्द को कभी दर्द नहीं होता, यह कहावत तो आपने सुनी होगी। लेकिन मर्द की मर्दानगी से जुड़े सवालों को हल्के-फुल्के अंदाज में छूती इस फिल्म में लीड कैरेक्टर आयुष्मान मर्द की नई परिभाषा बताती है कि मर्द वह होता है, जो ना दर्द देता है और ना किसी को देने देता है।

फिल्म शुभ मंगल सावधान दिल्ली बेस्ड मुदित शर्मा ( आयुष्मान खुराना) की कहानी है, जिसकी सगाई दिल्ली की ही सुगंधा (भूमि पेडनेकर) से हो जाती है। सगाई से शादी के बीच के दिनों में मुदित और सुगंधा एक-दूसरे के करीब आते हैं, तो उन्हें पता लगता है कि मुदित को सेक्सुअल प्रॉब्लम है। यह पता लगते ही सुगंधा के पैरंट्स शादी के खिलाफ हो जाते हैं। लेकिन मुदित किसी भी हालत में सुगंधा से शादी करना चाहता है और इसके लिए हर मुमकिन कोशिश करता है। इसमें सुगंधा भी उसका पूरा साथ देती है। मजेदार घटनाक्रम और तमाम नोक-झोंक के बीच आखिरकार मुदित और सुगंधा की शादी हो पाती है या नहीं यह आपको थिअटर में जाने पर ही पता लगेगा।

शुभ मंगल सावधान 2013 में आई तमिल फिल्म कल्याण समायल साधम् की हिंदी रीमेक है। इसके तमिल वर्जन के डायरेक्टर आर. एस. प्रसन्ना ही थे। इसलिए शुभ मंगल सावधान के निर्माता और अपनी तनु वेड्स मनु और रांझणा जैसी देसी अंदाज वाली फिल्मों के लिए मशहूर आनंद एल राय ने इसके डायरेक्शन की कमान प्रसन्ना को सौंपी। प्रसन्ना ने भी आनंद को निराश नहीं किया और हिंदी के दर्शकों के लिहाज से मजेदार कॉमिडी पेश की है। खास बात यह है कि उन्होंने मौजूदा समाज में स्ट्रेस के चलते लड़कों के बीच सेक्सुअल प्रॉब्लम और शादी के बाद इसे झेलने वाली वाली तमाम लड़कियों की परेशानी को बेहद खूबसूरती से मजेदार अंदाज में पर्दे पर उतारा है।

बेशक, सिनेमा समाज का दर्पण होता है और सिनेमा का असर समाज पर काफी हद तक पड़ता है। ऐसे में, इस फिल्म को देखने वाले युवा लड़के-लड़कियों में निश्चित तौर पर एक ऐसे विषय को लेकर जागरूकता बढ़ेगी, जिसके बारे में हमारे समाज में बात करने से अमूमन बचा जाता है। खासकर प्रसन्ना ने कुछ सीरियस चीजों को महज सीन या डायलॉग से बेहद खूबसूरत अंदाज में पर्दे पर दिखाया है। हालांकि कहीं-कहीं डबल मीनिंग डायलॉग कुछ ज्यादा ही हो जाते हैं। लीक से हटकर सब्जेक्ट के चलते यंगस्टर्स के बीच चर्चित शुभ मंगल सावधान के क्रेज का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस फिल्म के ट्रेलर को एक करोड़ से ज्यादा लोग देख चुके हैं।

विकी डोनर, दम लगा के हईशा और बरेली की बर्फी में मजेदार रोल के बाद शुभ मंगल सावधान में भी बेहतरीन ऐक्टिंग करके आयुष्मान खुराना ने दिखा दिया है कि वह देसी जोनर की फिल्मों के एक्सपर्ट बन चुके हैं। वहीं दम लगा के हईशा और टॉयलेट एक प्रेमकथा जैसी देसी फिल्मों में अपनी ऐक्टिंग का लोहा मनवाने वाली भूमि पेडनेकर ने भी दिखा दिया कि वह बॉलिवुड में लंबी पारी खेलने के लिए आई हैं। आने वाले दिनों में देसी जोनर की फिल्मों के कई रोल भूमि को ऑफर हो सकते हैं। दम लगा के हईशा के बाद आयुष्मान और भूमि की जोड़ी फिर से खूब जमी है। सुगंधा के ताऊ जी के रोल में ब्रिजेंद्र काला हमेशा की तरह लाजवाब हैं। वहीं सुगंधा की ममी के रोल में सीमा पाहवा ने बरेली की बर्फी के बाद एक बार फिर बेहतरीन ऐक्टिंग की है।

फिल्म के राइटर हितेश केवलय ने ऐसे मनोरंजक डायलॉग लिखे हैं, जो थिअटर में दर्शकों को पेट पकड़कर हंसने पर मजबूर देते हैं। फिल्म का फर्स्ट हाफ आपको खूब गुदगुदाता है। हालांकि इंटरवल के बाद से फिल्म जरूर थोड़ी सीरियस हो जाती है। फिल्म के गाने अच्छे लगते हैं और कहानी का हिस्सा ही लगते हैं। वहीं अनुज राकेश धवन की सिनेमटाग्रफी भी अच्छी है। खासकर गानों का फिल्मांकन भी खूबसूरती से किया गया है। इस वीकेंड आप इस फिल्म को देखने जायेंगे, तो यह आपको निराश नहीं करेगी।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar