न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

रिजर्व बैंक के बयान के बाद सेंसेक्स 205 अंक टूटा

मुंबई। रिजर्व बैंक (आरबीआई) के महँगाई बढ़ने की आशंका जताने और वैश्विक स्तर से मिले नकारात्मक संकेतों से आज घरेलू शेयर बाजारों में चौतरफा बिकवाली रही। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 205.26 अंक लुढ़ककर डेढ़ महीने के निचले स्तर 32,597.18 अंक पर आ गया।
नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 74.15 अंक टूटकर करीब दो महीने के निचले स्तर 10,044.10 अंक पर आ गया। लागातार सात कारोबारी दिवसों में से छह में शेयर बाजार लुढ़का है।
रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष की पाँचवीं द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में उम्मीद के अनुरूप ब्याज दरें यथावत रखी हैं। लेकिन, उसने आने वाले समय में महँगाई का दबाव बढ़ने का भी पूर्वानुमान जताया है। वैश्विक दबाव में बाजार पहले से ही लाल निशान में था। रिजर्व बैंक की नीति जारी होने के बाद इसकी गिरावट और बढ़ गयी।
चौतरफा बिकवाली के बीच मझौली और छोटी कंपनियों में भी गिरावट रही। बीएसई का मिडकैप 0.89 प्रतिशत लुढ़ककर 16,662.88 अंक पर आ गया। स्मॉलकैप 0.66 प्रतिशत की गिरावट में 17,800.83 अंक पर बंद हुआ। बीएसई में कुल 2,799 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,644 में बिकवाली और 978 में लिवाली का जोर रहा जबकि 177 के शेयरों के भाव अपरिवर्तित बंद हुये।
सेंसेक्स 3.94 अंक की गिरावट के साथ 32,798.50 अंक पर खुला। शुरुआती कारोबार में 32,804.75 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर पर पहुँचने के बाद इसमें लगातार गिरावट देखी गयी। मौद्रिक नीति बयान जारी होने से पहले इसकी गिरावट करीब सवा सौ अंक के आसपास थी। बयान जारी होने के बाद यह 32,565.16 अंक के दिवस के निचले स्तर तक उतर गया। कारोबार की समाप्ति पर यह गत दिवस के मुकाबले 0.63 प्रतिशत यानी 205.26 अंक लुढ़ककर 32,597.18 अंक पर बंद हुआ जो 23 अक्टूबर के बाद का इसका निचला स्तर है।
आईटी, टेक और एनर्जी समूह को छोड़कर अन्य में गिरावट रही। धातु समूह में सबसे ज्यादा दो प्रतिशत की गिरावट रही। सेंसेक्स की कंपनियों में सनफार्मा और भारतीय स्टेट बैंक के शेयर सर्वाधिक दो प्रतिशत से ज्यादा टूटे। रिलायंस इंडस्ट्रीज में सबसे ज्यादा करीब पौने दो प्रतिशत की तेजी रही। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 29.45 अंक की गिरावट में 10,088.80 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान इसका दिवस का उच्चतम स्तर 10,104.20 अंक और निचला स्तर 10,033.35 अंक रहा। अंतत: यह गत दिवस के मुकाबले 0.73 प्रतिशत यानी 74.15 अंक टूटकर 10,044.10 अंक पर रहा। यह इसका 11 अक्टूबर के बाद का निचला बंद स्तर है।
वैश्विक स्तर पर अधिकतर प्रमुख शेयर बाजारों में गिरावट रही। एशिया में चीन का शंघाई कंपोजिट 0.29 प्रतिशत, दक्षिण कोरिया का कोस्पी 1.42 प्रतिशत, जापान का निक्की 1.97 प्रतिशत और हांगकांग का हैंगसेंग 2.14 प्रतिशत लुढ़क गये। यूरोप में शुरुआती कारोबार में ब्रिटेन का एफटीएसई 0.04 प्रतिशत और जर्मनी का डैक्स 1.05 प्रतिशत की गिरावट में रहे।
बीएसई के 20 समूहों में से सिर्फ आईटी, टेक और एनर्जी के सूचकांकों में तेजी रही। सबसे ज्यादा 2.03 प्रतिशत की गिरावट धातु समूह में रही। दूरसंचार का सूचकांक 1.38 फीसदी, बेसिक मटिरियल्स का 1.37, पीएसयू का 1.32, वित्त का 1.30, बैंकिंग का 1.23 और पूँजीगत वस्तुओं का 1.09 प्रतिशत टूटा।
सेंसेक्स की 30 कंपनियों में से 25 के शेयर लाल निशान में रहे। सनफार्मा के शेयर सबसे ज्यादा 2.31 प्रतिशत लुढ़के। स्टेट बैंक में 2.21 प्रतिशत, आईसीआईसीआई बैंक में 1.96, एचडीएफसी में 1.78, बजाज ऑटो में 1.65, ओएनजीसी में 1.46, एलएंडटी में 1.43, टाटा मोटर्स में 1.38, महिंद्रा एंड महिंद्रा में 1.37, भारती एयरटेल में 1.34, टाटा स्टील में 1.17, एचडीएफसी बैंक में 1.14, आईटीसी में 1.02, एशियन पेंट्स में 0.91, एनटीपीसी में 0.85, एक्सिस बैंक में 0.74, डॉ. रेड्डीज लैब में 0.70, हीरो मोटोकॉर्प में 0.62, अदानी पोर्ट्स में 0.48, विप्रो में 0.39, सिप्ला में 0.16, कोल इंडिया और टीसीएस दोनों में 0.09, ल्युपिन में 0.07 और कोटक महिंद्रा में 0.06 प्रतिशत की गिरावट रही।
रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर सबसे ज्यादा 1.76 प्रतिशत चढ़े। मारुति सुजुकी के शेयर 1.23 प्रतिशत, हिंदुस्तान यूनिलिवर के 1.05, इंफोसिस के 0.61 और पावर ग्रिड के 0.07 प्रतिशत की बढ़त में रहे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar