न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

लोगों को उनकी मातृभाषा में उपलब्ध करायी जायं सूचनाएं: नायडू

नयी दिल्ली. देश में अंग्रेजी भाषा के वर्चस्व पर क्षोभ व्यक्त करते हुए उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने आज कहा कि लोगों काे उनकी मातृभाषा में सूचनाएं देने की व्यवस्था विकसित की जानी चाहिए।
श्री नायडू ने यहां केंद्रीय सूचना आयोग के 12वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित करते कहा कि देश के 95 प्रतिशत लोग अंग्रेजी नहीं जानते लेकिन आजादी के 70 वर्ष बाद भी हमारी मानसिकता अंग्रेजी परस्त है। उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार के तहत सूचना मांगने वाले को जानकारी उसी की भाषा में दी जानी चाहिए ताकि वह अासानी से उसे समझ सके। अदालतों में भी मातृभाषा में कामकाज होना चाहिए । इसके लिए ढांचागत सुविधाएं विकसित करने की जरूरत है।
उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार से सरकार की जवाबदेही और कामकाज में पारदर्शिता बढ़ती है। आरटीआई आवेदनों के त्वरित निपटारे पर जोर देते हुए उन्हाेंने कहा कि इससे लोगों की शिकायतों का जल्द निराकरण होगा । सूचना के अधिकार के दुरूपयोग को नयी चुनौती बताते हुए श्री नायडू ने कहा कि इसे रोकने के लिए जरूरी कदम उठाये जाने चाहिए ।

The Vice President, Shri M. Venkaiah Naidu addressing the gathering after inaugurating the 12th Annual Convention of the Central Information Commission, in New Delhi on December 06, 2017.
The Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C), Prime Minister’s Office, Personnel, Public Grievances & Pensions, Atomic Energy and Space, Dr. Jitendra Singh, the Chief Information Commissioner, Shri Radha Krishna Mathur and other dignitaries are also seen.

उपराष्ट्रपति ने कहा कि विश्वसनीय सूचनाएं मिलने से लोकतंत्र में जनभागीदारी बढ़ती है । सूचनाओं के आदान -प्रदान और जनता के प्रति जवाबदेह प्रशासन को लोकतंत्र का स्तंभ बताते हुए उन्होंने कहा कि लोकतंत्र की सफलता के लिए पारदर्शिता एवं जवाबदेह व्यवस्था अहम है ।
इस संदर्भ में नोटबंदी का जिक्र करते हुए श्री नायडू ने कहा कि इससे पूरा पैसा बैकों में पहुंच गया और नोटबंदी का मकसद भी यही था । इसमें कितने नाेट जाली थे और कितने खातों का दुरूपयोग हुआ, रिजर्व बैंक को इससे जुड़ी सूचनाएं जनता को समय से देनी चाहिए। सूचनाओं के प्रसार में मीडिया की भूमिका को उन्होंने अहम बताया । साथ ही इस बात पर अफसोस भी जताया कि मीडिया सनसनीखेज खबरों को ज्यादा तवज्जो दे रहा है।
श्री नायडू ने सभी चुनाव साथ -साथ कराये जाने के लिए राजनीतिक दलों में आमराय कायम करने का एक बार फिर सुझाव दिया ।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar