National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

विभिन्न पत्रकार संगठनों ने जंतर-मंतर पर दिया धरना

रमेश ठाकुर
नई दिल्ली। श्रम कानूनों के संरक्षण और वर्किंग जर्नलिस्ट एक्ट को बनाए रखने की मांग को लेकर गुरुवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर देश के तमाम संगठनों ने एक जुट होकर अपनी आवाज बुलंद की। एक दिनी धरना-प्रदर्शन कार्यक्रम में मुख्य रूप से इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट के अलावा मीडिया कर्मियों के दूसरे बड़े परिसंघ कॉन्फ़ेडरेशन ऑफ न्यूज पेपर्स एंड न्यूज एजेंसीज इम्पलाइज आर्गेनाइजेशन भी शामिल हुए। इस मौके पर आईएफडब्ल्यूजे उपाध्यक्ष हेमंत तिवारी ने कहा की अब पत्रकारों के लिए पत्रकारिता का पेशा पहाड़ तोड़ने जैसा हो गया है। बदलती परिस्थितियों में पत्रकारिता करना जोखिम उठाने जैसा हो गया है।
संस्था के महासचिव परमानंद पांडेय ने कहा कि
पत्रकार कारखाने में काम करने वाला मजदूर जैसा हो गया है। जब उस पर कोई परेशानी आती है तो सभी साथ छोड़ देते हैं। हमारी केंद्र और राज्यों की हुकूमतों से मांग है कि पत्रकारों के हित और सम्मान के लिए ऐसा कानून बनना चाहिए, जिससे उसके हितों की रक्षा हो सके।
कार्यक्रम में विभिन्न मीडिया संस्थानों से जुड़े सैकड़ों पत्रकारों ने भाग लिया। जिसमें कई वरिष्ठ पत्रकारों ने अपनी मौजूदा पीड़ा को साझा किया।
कार्यक्रम का नेतृत्व पीटीआई के एमएस यादव, आईजेयू की सबीना इंद्रजीत, यूएनआई के एमएल जोशी और एनयूजे (आई) के मनोहर सिंह आदि ने किया।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »