न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

शरद, अनवर की राज्यसभा सदस्यता समाप्त

नयी दिल्ली। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने जनता दल यूनाइटेड के बागी नेता शरद यादव तथा अली अनवर अंसारी की सदन की सदस्यता आज समाप्त कर दी।  श्री अनवर ने आज देर रात अपनी सदस्यता समाप्त किये जाने की पुष्टि करते हुए कहा कि वह इस समय गुजरात के राजकोट शहर में तथा श्री यादव भरुच में चुनाव प्रचार हैं। राज्यसभा सचिवालय की ओर से जारी बुलेटिन में कहा गया है कि सभापति ने संविधान के अनुसूचि दस (दलबदल कानून) के तहत दोनों की सदस्यता तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी है। बुलेटिन में कहा गया है कि जदयू की ओर से पार्टी के महासचिव आरसीपी सिंह ने राज्यसभा के सभापति से श्री यादव और श्री अनवर की सदस्यता समाप्त करने का अनुरोध किया था। उन्होंने सभापति को भेजी याचिका में कहा था कि इन दोनों नेताओं ने पार्टी अनुशासन का उल्लंघन किया है और स्वत: ही पार्टी से अलग हो गये हैं। इसके मद्देनजर दलबदल कानून के तहत उनकी सदस्यता समाप्त कर दी जानी चाहिए।
राज्यसभा बुलेटिन में कहा गया है कि श्री सिंह तथा श्री यादव और श्री अनवर की ओर से दलीलें सुनने के बाद सर्वोच्च न्यायलय के 1994 के रवि नायक बनाम केंद्र सरकार मामले में दिये गये फैसले को मद्देनजर रखते हुए दोनों की सदस्यता रद्द की जाती है।
जनता दल यू अध्यक्ष एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के राज्य में महागठबंधन से अलग होकर भारतीय जनता पार्टी के साथ सरकार के साथ मिलकर सरकार बनाने का श्री यादव और श्री अनवर ने विरोध किया था। उनका कहना था कि राष्ट्रीय जनता दल और कांग्रेस के साथ बने महागठबंधन से अलग होने का श्री कुमार का फैसला पार्टी नियमों के खिलाफ है। दोनों नेताओं ने पार्टी के निर्देश की अवहेलना करते हुए राष्ट्रीय जनता दल द्वारा पटना में आयोजित एक रैली में भी भाग लिया था। नीतीश गुट ने इसे अनुशासनहीनता करार दिया था और कहा था कि दोनों नेता स्वत: ही पार्टी से अलग हो गये हैं।
श्री अनवर ने यूनीवार्ता से फोन पर बातचीत में कहा कि उन्हें तथा श्री यादव को राज्यसभा सदस्यता समाप्त होने की सूचना मिल गयी है लेकिन उन्हें यह सूचना मिलने से पहले श्री आरसीपी सिंह ने अपने फेसबुक पर राज्यसभा के बुलेटिन की प्रति पोस्ट कर दी थी जिस पर किसी के भी हस्ताक्षर नहीं हैं। उन्होंने कहा कि श्री सिंह भी इस समय दिल्ली से बाहर हैं।
श्री अनवर ने अपनी प्रतिक्रिया में दो शेर पढ़े ”हम तो दरिया हैं हमें अपना हुनर मालूम है, जिस तरफ भी चल पड़ेंगे रास्ता हो जाएगा।”
”न मैं गिरा न मेरे हौसलों के मीनार गिरे, पर मुझे गिराने में कुछ लोग कई बार गिरे।”
जेडीयू दिल्ली प्रदेश प्रवक्ता सत्य प्रकाश मिश्रा ने कहा कि राज्यसभा के सभापति ने संविधान और राज्यसभा के नियमों के तहत सही फैसला लिया है। दोनों नेताओं ने पार्टी का अनुशासन तोड़ा था जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता था और इसीलिए उनकी सदस्यता समाप्त करने का अनुरोध किया गया था।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar