National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

शिकायतों का तय समय में निवारण जरुरी : सीवीसी

नयी दिल्ली। केंद्रीय सतर्कता आयुक्त टी एम भसीन ने आज कहा कि सरकारी संस्थाओं पर आम जनता के भरोसे को कायम रखने के लिए सतर्कता बरती चाहिए और शिकायतों का नियत समय के भीतर निपटाया जाना चाहिए।
श्री भसीन ने यहां कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के राष्ट्रीय सम्मेलन ‘धोखाधड़ी जोखिम प्रबंधन- नव पहल’ का उद्घाटन करते हुए कहा कि ईपीएफआे की भविष्य निधि जैसी योजनाओं और कार्यक्रमों की सफलता आम जनता के विश्वास एवं भरोसे पर निर्भर करती है। उन्होेंने कहा कि इंटरनेट और ऑनलाइन हाेने के कारण व्यवस्था को आसान और सरल बनाने में मदद मिली है लेकिन इसमें धांधली, धोखाधड़ी और जालसाजी जैसे जोखिम भी हैं।
प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल पर बल देते हुए उन्होंने कहा कि तकनीक के सही और सटीक इस्तेमाल तथा कुशल एवं त्वरित प्रबंधन से इन जोखिमों को कम से कम किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि जनहित से जुड़ी किसी भी संस्था को जन शिकायत निवारण पर सर्वाधिक ध्यान देना चाहिए। इसके लिये ऐसी व्यवस्था की जानी चाहिए जिससे पीड़ित की शिकायत को सुन लिया जाये और उसका निवारण नियत समय के भीतर हो जाये। इससे लोगों का भरोसा व्यवस्था पर बढ़ेगा और घटना के बाद की स्थिति से आसानी से निपटा जा सकेगा।
श्री भसीन ने कहा कि अगर धांधली, धोखाधड़ी और जालसाजी जैसी घटनाओं की शिकायतों पर तुरंत कार्रवाई की जाये तो इन पर काबू पाया जा सकता है। इस अवसर पर ईपीएफओ के केेंद्रीय भविष्य निधि आयुक्त डा. वी पी जॉय तथा अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।
इस अवसर पर श्री जॉय ने ईपीएफओ के प्रबंधन तथा शिकायत निवारण व्यवस्था का उल्लेख किया और कहा कि अंशधारकों के सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए पूरा कामकाज ऑनलाइन किया जा रहा है। सेवा की आपूर्ति के लिए समय सीमा नियत की गयी है। उन्होेंने कहा कि 15 अगस्त 2018 तक ईपीओएफ का कामकाज पूरी तरह से डिजीटल हो जाएगा।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar