National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

शिकायत होगी मोबाइल एप पर रजिस्टर, स्टेशनों तथा ट्रेनों में चरणबद्ध प्रक्रिया में लगेगे सीसीटीवी कैमरे

श्री अरूण कुमार, महानिदेषक-रेलवे सुरक्षा बल ने जयपुर दौरे पर प्रेस से किया वार्तालाप

नई दिल्ली l श्री अरूण कुमार, आईपीएस, महानिदेषक-रेलवे सुरक्षा बल, रेलवे बोर्ड ने आज दिनांक 09.12.18 को उत्तर पष्चिम रेलवे के जयपुर मण्डल के दौरे के दौरान रेलवे सुरक्षा कार्यों को जायजा लिया और सुरक्षा व्यवस्था को और अधिक बेहतर बनाने पर बल दिया।
उत्तर पष्चिम रेलवे के मुख्य जनसम्पर्क अधिकारी श्री अभय षर्मा के अनुसार श्री अरूण कुमार, आईपीएस, महानिदेषक-रेलवे सुरक्षा बल, रेलवे बोर्ड ने जयपुर में रेलवे सुरक्षा से जुडे विषयों का जायजा लिया और उनको और अधिक कारगर व बेहतर बनाने के लिये दिषा निर्देष प्रदान किये। श्री अरूण कुमार ने रेलवे सुरक्षा बल के बैरक का निरीक्षण किया और वहाॅ की स्थिति तथा सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की तथा सुरक्षा बल के जवानों को प्रदान की जा रही सुविधाओं को और बेहतर बनाने संबधी सुझाव व दिषा निर्देष दिये। श्री अरूण कुमार ने गणपति नगर स्थित अरावली सभागृह में आयोजित सुरक्षा सम्मेलन में रेलवे सुरक्षा बल कर्मियों से संवाद कर उनसे कार्य संबंधित जानकारिया प्राप्त की तथा कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने के लिये उनकी राय भी जानी।
श्री अरूण कुमार, महानिदेषक-रेलवे सुरक्षा बल ने पत्रकारों से वार्तालाप में बताया कि रेलवे सुरक्षा बल यात्रियों को सुरक्षा व्यवस्था प्रदान करने के साथ-साथ उनकी समस्याओं के समाधान में भी अहम भूमिका का निर्वहन करता है। विगत त्यौहारी सीजन में टिकट दलाली तथा ई-टिकट प्रणाली के माध्यम से गैर कानूनी तरीके से टिकट बुक करवाने वाले एजेंटो पर पूरे देष में एक साथ छापे मार कर कार्यवाही की गई। उन्होंने बताया कि पहले रेलवे सुरक्षा बल के पास रेलवे सम्पति से जुडे विषय ही क्षेत्राधिकार में आते थे, अब यात्री सुरक्षा का कार्य भी रेलवे सुरक्षा बल के पास है, इसके लिये राजकीय रेलवे पुलिस के साथ समन्वय स्थापित कर कार्य को बेहतर तरीके से निष्पादित किया जा रहा है। रेल यात्रा के दौरान सामान चोरी होने की षिकायते अधिक आती है, इसको ध्यान में रखकर मोबाइल एप विकसित की जा रही है, जिसके माध्यम से चलती ट्रेन में भी यात्री अपनी षिकायत रजिस्टर करवा सकता है, जिस पर समयानुसार कार्यवाही करना संभव होगा। उन्होंने बताया कि रेलवे पर गैर कानूनी तरीके से ट्रेक पार करने वालों की संख्या बहुत अधिक है, इसके लिये रेलवे द्वारा नियमित तौर पर जागरूकता अभियान चलाये जाते है तथा अभी रेलवे सुरक्षा बल को सम्पूर्ण भारतीय रेलवे पर ऐसे क्षेत्रों की पहचान करने का कार्य दिया गया है, जहाॅ ट्रेक के आस-पास घनी आबादी है और गैर कानूनी तरीके से लोग ट्रेक पार करते है। इन क्षेत्रों की पहचान के पश्चात् भारतीय रेलवे पर 3000 किलोमीटर लाइनों के पास प्रोजेक्ट के तहत दीवारें बनायी जायेगी। स्टेषनों व ट्रेनों में सुरक्षा व्यवस्था को मजबूत बनाने के लिये सीसीटीवी कैमरे चरणबद्ध प्रक्रिया के तहत लगाये जा रहे है तथा आने वाले समय में सभी स्टेषनों तथा ट्रेनों की सुरक्षा व्यवस्था की माॅनिटरिंग इनके माध्यम से की जायेंगी। साथ ही उन्होंने बताया कि रेलवे में आउटसोर्स से कार्य करने वाले व्यक्तियों का पुलिस सत्यापन अनिवार्य है ताकि संदेहप्रद व्यक्ति रेल कार्यों में न आ सके। उन्होेंने अपने पुराने अनुभवों का जिक्र करते हुये कहा कि इन अनुभवों से रेल सुरक्षा को बेहतर व मजबूत बनाने में बहुत मदद प्राप्त हो रही है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar