National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

शीत सत्र: पीएम मोदी बोले, बेशक वाद हो लेकिन बात होनी चाहिए

नई दिल्ली | जहां एक तरफ 5 राज्यों के मतदानों की गिनती चल रही है। 5 राज्यों की जनता ने अपने भविष्य के सर्वेसर्वा का फैसला ईवीएम में बंद कर दिया है। वहीं आज दिल्ली में संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। जिसमें कई अहम अध्यादेशों को सदन में पेश किया जाएगा। सरकार की कोशिश रहेगी कि वह तीन तलाक के अध्यादेश को कानून की शक्ल दे सके। वहीं कई अहम संशोधनों पर सदन की मुहर लगवा सके। सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मीडिया से बातचीत की। उन्होंने नतीजों के बारे में कुछ नहीं कहा और उनका पूरा फोकस शीतकालीन सत्र पर ही रहा। उन्होंने कहा, यह सत्र काफी महत्वपूर्ण है। इसमें सार्वजनिक महत्व के कई मुद्दे उठाए जाएंगे। मुझे पूरा विश्वास है कि संसद के सभी सदस्य इस भावना का सम्मान करेंगे और आगे बढ़ेंगे। हमारी कोशिश रहेगी कि हर मुद्दे पर बातचीत हो। बेशक वाद हो लेकिन बात होनी चाहिए। स्वर्गीय अनंत कुमार की जगह नए संसदीय मंत्री बनाए गए नरेंद्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को कहा था कि राज्य विधानसभा चुनाव के नतीजों का शीतकालीन सत्र पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ेगा। तोमर ने कहा था, ‘देखिए चुनाव के नतीजे पूरी तरह से राज्य की विधानसभा का मुद्दा हैं। मुझे नहीं लगता कि राज्य में होने वाली हलचल संसद के शीतसकालीन सत्र के एजेंडे या किस्मत को तय करेंगी। सभी राजनीतिक पार्टियां इस बात को जानती हैं और सरकार और विपक्ष की तरफ से बहुत से मसले हैं जिन्हें सदन में उठाया जाएगा और चर्चा की जाएगी।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar