National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

संजय कुमार गिरि के १० ‘दोहे’

! ! दोहे ! !

1
आगे बढ़ते जाइए ,गाते सुन्दर गान !
कृपा करें माँ शारदे,मिले तुम्हें सम्मान !!
2
सच्चे मन से जो करे ,अपने गुरु का ध्यान !
ज्ञान बढ़े उसका सदा ,जीवन बने महान !!
3
नमन करें हम आपको हे गुरवर जगदीश !
सर पर मेरे हाथ हो ,मिले सदा आशीष !!
4
आगे बढ़ते जाइए ,गाते सुन्दर गान !
कृपा करें माँ शारदे,मिले तुम्हें सम्मान !!
5
सैनिक बन कर देश के,देते अपनी जान !
बच्चे मेरे देश के , सचमुच बड़े महान !!
6
गंगा शीतल बह रही ,सबके दिल में आज !
जीवन में रँग आएगा ,होगा दिल को नाज़ !!
7
नारी को मिलते नहीं, जहाँ सभी अधिकार !
अपने सपनो को करे ,कैसे वो साकार !!
8
गौ माता की वंदना ,करते जो इन्सान !
विपदाएं उनकी सभी हरते कृपा निधान !!
9
रामायण में राम की ,महिमा का गुणगान
पढ़कर इसको है मिला ,सबको ही सम्मान
संजय कुमार गिरि
10
सावन सूखा रह गया, नहीं बरसता नीर।..
पी से मिलने के लिए,सजनी भई अधीर ।।

संजय कुमार गिरि

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar