National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

संवेदनशील क्षेत्रों में दवाएँ और ओ. आर. एस. के पैकेट बाँटे जा रहे -हैल्पलाईन नंबर जारी

लुधियाना। शहर के कुछ इलाकों में डायरिया के मामले सामने आने की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए जहाँ सेहत विभाग की तरफ से लगातार राहत कार्य जारी किये हुए हैं वहीं आम लोगों को डायरिया से बचने के लिए योग्य सलाह भी जारी की गई हैं। इसके अलावा लोगों की सहायता के लिए जिला स्तरीय हैल्पलाईन नंबर भी जारी किया गया है और संभावित खतरे वाले क्षेत्रों में दो लाख से ज्यादा जिंक गोलियाँ, 30 हजार से ज्यादा क्लोरीन गोलियाँ, 2.42 लाख ओ.आर.एस. पैकेट और अन्य गोलियाँ घर घर जा कर बाँटी जा रही हैं। सिविल सर्जन डा. परविन्दर पाल सिंह सिद्धू ने लोगों को डायरिया से बचने के उपाय बारे जानकारी देते हुए बताया कि हमेशा साफ और शुद्ध पानी का ही प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि कोशिश करो कि पानी उबाल कर पिया जाए या 20 लीटर पानी में एक क्लोरीन की गोली डाल कर आधा घंटा ठहरे पानी छान कर पिया जाए। खाने पीने की वस्तुएँ धूल और मक्खियों आदि से ढक कर रखी जाएँ। भोजन हमेशा गर्म और ताजा ही खाओ। ज्यादा पके और कटे हुए फल और सब्जियाँ न खाई जाएं। खाना खाने से पहले और षौच जाने के बाद हाथ साबुन के साथ धोने चाहिएं। उन्होंने कहा कि हमें अपने घरों आसपास सफाई रखने के साथ-साथ पानी जमा नहीं होने दिया जाना चाहिए। दस्त उल्टी लगने पर नमक चीनी के घोल का प्रयोग करना चाहिए। यह पैकेट सेहत संस्थाओं की तरफ से मुफ्त दिया जा रहा है। यदि जरूरत हो तो मरीज को तुरंत नजदीक के सेहत केंद्र या अस्पताल में ले जाना चाहिए। डा. सिद्धू ने कहा कि इस सम्बन्धित और ज्यादा जानकारी के लिए कंट्रोल रूम कार्यालय, सिविल सर्जन फोन नंबर 0161 -2444193 पर संपर्क करना चाहिए। डा. सिद्धू ने बताया कि पिछले महीने गीता कालोनी, भारतीय कालोनी, अमन कालोनी, बहादुरके रोड से दस्त, उल्टी के मरीज सामने आए थे। सूचना ही रैपिड रिसपौंस टीम की तरफ से मौके पर जा कर सर्वे किया गया। प्रभावित क्षेत्र के घरों का सर्वे कराने उपरांत जो मरीज मिले, उन्हें को सिविल अस्पताल लुधियाना में रैफर किया गया। इसी प्रकार अब भी संवेदनशील इलाकों में सर्वे लगातार जारी है। संभावित खतरे वाले क्षेत्रों में 2 लाख से और ज्यादा जिंक गोलियाँ, 30 हजार से और ज्यादा क्लोरीन गोलियाँ, 2.42 लाख ओ.आर.एस. पैकेट और अन्य गोलियाँ घर -घर जा कर वितरित की जा रही हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar