National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सनसनीखेज मर्डर : दोस्त की हत्या कर शव के 3 टुकड़े करके फ्रीज में छुपाकर रखने वाला फरार आरोपी गिरफ्तार

शव के टुकड़ो को जाँच के लिए ले जाता पुलिस कर्मी।

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में मर्डर का सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां के सैदुल्लाजाब इलाके में दोस्त की हत्या करने के बाद निर्ममता से शव को तीन टुकड़ों (सिर, धड़ व पैर) में काटकर फरार होने वाले शख्स को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम बादल मंडल है। पुलिस ने उसे ओड़ीसा से गिरफ्तार किया है। मृतक की पहचान विपिन चंद जोशी (29) के रूप में हुई थी। जानकारी के अनुसार महरौली थानाक्षेत्र के सैदुल्लाजाब में विपिन अपने छोटे भाई महेश चंद जोशी के साथ गली नंबर एक में किराए पर रहता था।
दोनों भाई मूलरूप से कफौली गांव, जिला बागेश्वर (उत्तराखंड) के निवासी थे व यहां सालों से किराये पर रहते थे। कुछ ही दूरी पर विपिन का दोस्त बादल मंडल भी मकान नंबर-492 की दूसरी मंजिल पर किराये पर रहता था। विपिन व बादल साकेत स्थित एक ही बीयर बार में नौकरी करते थे। पुलिस सूत्रों के अनुसार, विपिन के छोटे भाई महेश (25) ने बताया कि उसने कई बार बादल से अपने भाई के बारे में फोन कर पूछा, लेकिन बादल उसे बरगलाता रहा, जबकि महेश को पड़ोसियों ने बताया था कि आखिरी बार विपिन और बादल गत सोमवार शाम (9 अक्टूबर ) को एक साथ दिखे थे। इसके बाद विपिन के लापता होने की सूचना परिजनों ने पुलिस को दी थी। वहीं, विपिन की तलाश में उसके जीजा हरीश चंद जोशी बादल के रूम पर पहुंच गए।

कमरे में फैला था खून, फ्रीज में मिला शव
विपिन के जीजा हरीश जब बादल के रूम पर पहुंचे तो वहां से बदबू आ रही थी। इसकी सूचना महरौली थाना पुलिस को दी गई। पुलिस दरवाजा तोड़कर अंदर दाखिल हुई तो हैरान रह गई। कमरे में जहां-तहां खून बिखरा था। विपिन का कटा हुआ शव फ्रीज से बरामद किया गया। पास ही हत्या में प्रयुक्त एक बड़ा चाकू (चॉपर) भी पुलिस को मिला है।

मृतक विपिन चंद जोशी (29)

वारदात से पहले दोनों ने की थी पार्टी
विपिन की हत्या से बादल ने उसके साथ उसी कमरे में पार्टी की थी। विपिन शाम के करीब 6-7 बजे पास के होटल से छह रोटियां लेकर उसके कमरे पर गया था। पड़ोस के लोगों का कहना है कि दोनों अच्छे दोस्त थे। इस तरह हत्या की बात से वे भी भौचक हैं।
इधर बिल्डिंग के गार्ड ने बताया कि बादल 1 अक्टूबर को ही इस कमरे में शिफ्ट हुआ था। 9 अक्टूबर की शाम को वह एक अन्य व्यक्ति (संभवत: विपिन) के साथ कमरे पर आया था, लेकिन देर रात अकेले ही गया था। इस दौरान वह कई बार ऊपर-नीचे आया गया था।

एक ही बार में करते थे काम
विपिन और बादल साकेत स्थित एक ही बार में काम करते थे। वहां पहुंचने पर परिजनों को पता चला कि विपिन बीते 8 अक्टूबर की रात करीब डेढ़ बजे होटल से निकला था। हालांकि अपने कमरे पर वह सोमवार सुबह साढ़े सात बजे पहुंचा था। वह कुछ रुपये लेकर दोबारा बाहर चला गया था। इसके बाद सुबह करीब साढ़े नौ बजे वह अपने छोटे भाई महेश से रास्ते में मिला था। महेश तब गुरुग्राम स्थित अपने होटल जा रहा था, जहां उसकी दिन की शिफ्ट में ड्यूटी थी।

दोनो की पत्नियां गई हैं गांव
महेश ने बताया कि बादल अपनी पत्नी व दोनों बच्चों को दशहरे से पहले गांव भेज चुका है। विपिन की पत्नी पूजा व डेढ़ साल की बेटी भी छह माह पहले उत्तराखंड स्थित गांव चले गए थे। पत्नियों के जाने के बाद दोनों अक्सर पार्टी किया करते थे। महेश का कहना है कि रात को ऐसा क्या हुआ, जिसके बाद बादल ने ऐसा घातक कदम उठाया यह रहस्य बना हुआ है।

फोन पर देता रहा गलत जानकारी
महेश ने बताया कि भाई के न मिलने पर उसने बादल को कई बार फोन किया। एक बार उसने बताया कि विपिन ऋषिकेश जाने की बात कर रहा था, फिर उसने बताया कि विपिन हरिद्वार गया है। आखिरी बार जब बीते बृहस्पतिवार को बात हुई थी तो बादल ने बताया था कि वह अपने गांव आ गया है। 23 अक्टूबर को दिल्ली लौटेगा तो बात करेगा, जिसके बाद से बादल का फोन बंद जा रहा है।

भाई की आस में मोर्चरी में देखी कई लाश
विपिन की गुमशुदगी का मामला दर्ज होने के बाद पुलिस महेश को एम्स मोर्चरी भी लेकर पहुंची थी। यहां उसे कई शव दिखाए गए थे। महेश का कहना है कि विपिन ने उसे कभी नहीं बताया कि बादल उसके साथ ऐसा कर सकता है। दोनों पिछले छह-सात साल से एक साथ काम कर रहे थे और अच्छे दोस्त थे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar