National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सरकार बनाने के लिए बागियों की मान मनुहार में जुटी भाजपा कांग्रेस

जयपुर । उम्मीदों पर टिकी है दुनिया की बीजेपी की भी इसी सोच के साथ राजस्थान में फिर सरकार बनाने की उम्मीद लग रही है बीजेपी के थिंक टैक के अनुसार करीब 60 सीटे ऐसी है जो अनिर्णय की स्थिति में है और यहां कुछ भी रिजल्ट सामने आ सकते है साथ ही कुछ वैचारिक बागी भी चुनाव जीत रहे है लिहाजा संपर्क साधने की रणनीति पर काम शुरू हो गया। इधर उधर जाने के लिए चॉपर ीाी तैयार है दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी ने भी तैरूारी कर ली है अपने जीत सकने वाले बागियों को टटोलने की। मतदान के दूसरे दिन से प्रदेश कांग्रेस के मतदान के दूसरे दिन से प्रदेश कांग्रेस के दिग्गज अशोक गहलोत व सचिन पायलट दिल्ली में है।
तमाम चुनाव परिणाम पूर्वा अनुमानों के विपरीत बीजेपी को उम्मीद है कि राजस्थान में फिर से कमल खिलेगा हालांकि बहुमत से दूरी बताई जा रही है ऐसे में बीजेपी के रणनीतिकारों ने करीब 1 दर्जन से अधिक बागियों को साधने का कार्य शुरू कर दिया है बागी जिनको मान सकते है उन नेताओं को मोर्चे पर लगाया गया है पहले हम उन प्रमुख बागियों की बात कर लेते है जिन्होने अपनों की बिगाडने का काम किया है। बीजेपी से बगावत करने वाले दिग्गज बागियों में से तीन चेहरे अभी तक ऐसे बताये जा रहे है जो मजबूती के साथ मैदान में डटे है इनमें किशनगढ़ से सुरेश टांक, महुआ से ओमप्रकाश हुडला, रतनगढ से राजकुमार रिणवां, सांगोर से जीवाराम चौधरी, मारवाड़ जंक्शन से लक्ष्मीनारायण दबे घाटोल से नवनीत लाल नीनामा, जैतारण से सुरेन्द्र गोयल, सागवाडा से अनिता कटारा, बांसवाडा से धनसिंह रावत, फुलेरा से दीनदयाल कुमावत को मजबूत फाइट में बताया जा रहा है। प्रमोद महाजन मॉडल के तहत बीजेपी ने मतगणना से पहले ही अपने बागियों के अलावा उन निर्देलीयों और दलों से भी संपर्क साधने की रणनीति बनाई है जो सरकार बनाने में भागीदार हो सकते है इनमें प्रमुख तौर पर हनुमान बनेीवाल की पार्टी आर एल पी शामिल है बेनीवाल की पार्टी कम से कम 4 सीटों पर जीत सकती है। दोनो दलों के बागी है जिनमें खंडेला से महादेव सिंह खंडेला, दूदू बाबूलाल नागर, शाहपुरा आलोक बेनीवाल, सादुलशहर ओम विश्नोईद्व श्रीगंगानगर राजकुमार गौड, सिरोही संयज लोढा, तारानगर चंद्रशेखर बैद, रनतगढ पूसाराम गोदारा, विधाधरनगर विक्रम सिंह शेखावत, बस्सी लक्ष्मण मीना, मारवाड जंक्शन खुशबीर सिंह जोजावर, सलूम्बर रेशम मीना, कुशलगढ रमीला खडिया, आहोर, जगदीश चौधरी, किशनगढ नाथूराम सिनोदिया, रामगंज मडी सीएल प्रेमी, बीकानेर पूर्व पश्चिम गोपाल गहलोत, मॉडल प्रद्युम्न सिंह, करणरपुर पृथ्वीपाल सिंह संधू, सुरेन्द्र गोयल जैतारण, सुरेश टांक किशनगढ़, राजकुमार रिणवां मतनगढ, हेमसिंह भडाना थानागाजी, धनसिंह रावत बांसवाडा, देवेन्द्र कटारा डूंगरपुर, लक्ष्मीनारायण दवे मारवाड जंक्शन, नंदलाल बंशीवाल दौसा, ओमप्रकाश हुडला महुवा, नवीनत लाल नीनामा घाटोल, जीवाराम चौधरी सांचोर, बालचंद अहीर रामगंज मंडी, राधेश्याम गंगानगर श्रीगंागनर, प्रहलाद राय टाक श्रीगंगानगर, कूलदीप धनकड विराटनगर, अनिता कटारा सागवाडा, किशनाराम नाई डूंगरगढ, दीनदयाल कुमावत फुलेरा, देवी सिंह शेखावत बानसूर, निशिर बबलू चौधरी झुझुनू सुखराम कोली बसेडी, ओम नरानीवाल भीलवाड़ा, उदयलाल भडाना मॉडल शामिल है।
कांग्रेस गुजरात, गोवा की गलती नहीं दोहरना चाहती :- मतगणना पूर्व रूझानों से कांग्रेस खेमा उत्साहित है यहां मुख्यमंत्री की जंग शुरू हो चुकी है इसके बावजूद कांग्रेस पार्टी के रणनीतिकारों ने अपने उन बागियों से सम्पर्क साधने का काम शुरू कर दिया है जो जीत सकते है कांग्रेस पार्टी अपनी विचारधारा के जिन बागियों को सबसे मजबूत मान रही है उनमें राजकुमार गौड, पृथ्वीपाल सिंह, शंभू महादेव सिंह खंडेला, आलोक बेनीवाल, पूसाराम गोदारा, विक्रम सिंह शेखावत, लक्ष्मण मीना, रमीला खाडिया समेत प्रमुख नेताओं को माना जा रहा है कांग्रेस के रणनीतिकार मान रहे है कि हम पूर्ण बहुमत से सरकार बना रहे है लिहाजा अधिक चिंता की जरूरत नहीं है यह जरूर है कि जो बागी अपने दम पर पार्टी से अलग होकर जीतते है तो वो फिर घर लौट आयेंगे बहरहाल भारतीय जनता पार्टी को अपने बागियों की ज्यादा जरूरत है जरूरत पडने पर कांग्रेस के जीत सकने वाले बागियों को भी बीजेपी टटोल सकती है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar