National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सहकर्मी की ईमेल हैक करके लाखों का चूना लगाने वाला आरोपी काबू

फरीदाबाद। ईमेल आईडी हैक करके पासवर्ड बदलकर बैंक से नया डेबिट कार्ड लेकर खाते से हजारों रुपए निकालने व लाखों के म्यूचुअल फंड बेचने के वाले गिरोह के दो सदस्यों को अपराध शाखा पुलिस ने पकडऩे में सफलता हासिल की है। पुलिस प्रवक्ता के अनुसार शिकायकर्ता मिराज अहमद ने साईबर सैल अपराध शाखा में शिकायत दी कि अज्ञात व्यक्ति ने उसकी मेल आई. डी. हैक करके पासवर्ड बदल दिया है और उसका बैंक डेबिट कार्ड ब्लॉक कराकर नया कार्ड जारी करवाकर 75 हजार रू. निकाल लिए है और 5 लाख रू. के म्यूचुअल फंड बेच दिये है। जिस पर थाना सैक्टर 7 फरीदाबाद में मुकदमा दर्ज कर लिया। ए.सी.पी. क्राईम राजेश चेची के निर्देश पर मुकदमा की तफ्तीश निरीक्षक सुरेश कुमार प्रभारी साईबर अपराध शाखा द्वारा अमल में लाई गई। जिन्होंने अपनी टीम ए.एस.आई. जावेद की साईबर तकनिक साहयता से मामले सुलझाते हुये आरोपी भवंर सिह निवासी सुभाश कालोनी बल्लबगढ़ को गिरफ्तार किया जो अभी पुलिस रिमांड पर है। शिकायतकर्ता मिराज अहमद व आरोपी भंवर सिंह दोनों अर्थिक अपराध शाखा एन.आई.टी जॉन के अभियोग में सहअभियुक्त रह चुके है। भवंर सिंह 8 महीने जेल में रहने के बाद जब जमानत पर बाहर आया तब मिराज अहमद न्यायिक हिरासत में ही था। क्योंकि भवंर व मिराज पहले एक ही कम्पनी में कार्यरत थे।

अपराध शाखा की टीम ने सुलझाया साईबर क्राईम का मामला

इसलिए भंवर सिंह ने मिराज की सभी व्यक्तिगत जानकारी होने का फायदा उठाकर ई मेल आई.डी. हैक कर ली व दूसरा सिम कार्ड जारी करा लिया। बैक कस्टमर केयर में मिराज बनकर जानकारी देकर उसके नाम का दूसरा डेबिट कार्ड जारी करा लिया व एक लाख रू. ए.टी.एम. से निकाल लिये। उसने मिराज अहमद के म्चुअल फंड से भी पॉच लाख रू. मिराज अहमद के खाते से ट्रांसर्फर करा लिये थे। लेकिन निकासी नही कर सका। भवंर सिंह यह सब इसलिए कर रहा था क्योकि वह अपने आपकों जेल जाने का कारण मिराज अहमद को मानता है। उसकी कोशिश थी कि वह उसे कम से कम 10 लाख कि आर्थिक हानि पहुचाऐं। लेकिन वह पूर्ण रूप से सफल नही हो सका। क्योकि मिराज अहमद जमानत पर जेल से बाहर आ गया था और उसके अपने साथ हो रही धोखाधडी का पता चल गया।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar