न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

सामाजिक सरोकारों से जोडऩे वाली सरकार बधाई की पात्र है ,सांसद

झुंझुनू। राज्य सरकार ने स्वस्थ युवा भारत के निर्माण के लिये प्रदेश में आज से एक महत्वाकांक्षी योजना की परिकल्पना को साकार की है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने प्रदेश में अन्नपूर्णा दूध वितरण योजना का शुभारंभ करके देश के उन भावी कर्णधारों को स्वस्थ और मजबूत बनाने का प्रण लिया है, जिनके सशक्त कंधों पर देश का भार और भविष्य निर्भर है। वह सरकार बधाई की पात्रा है, जो अपनी सरकारी नीतियों में सामाजिक सरोकारों को जोडऩे का प्रयास करती है।
यह विचार सांसद संतोष अहलावत ने सोमवार को कर्नल जेपी जानू राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय में आयोजित जिला स्तरीय अन्नपूर्णा दूध वितरण योजना के शुभारंभ समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में रख रही थी। उन्होंने कहा कि केन्द्र और राज्य सरकार के सामूहिक प्रयासों से ही आज सरकारी विद्यालयों की तश्वीर बदलती नजर आ रही है। सांसद ने सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं को गिनाते हुए बताया कि सरकार की ‘‘बेटी बचाआ,े बेटी पढ़ाओ’’ योजना हो, या मुख्यमंत्री राजश्री योजना हो या फिर जननि सुरक्षा योजना हो, सभी योजनाएं जहां देश और प्रदेश के लिंगानुपात को बढ़ाया है, वहीं यहां की बेटियों को सुरक्षित भविष्य भी दिया है। उन्होंने बताया कि जो झुंझुनू जिला पहले निचली पायदान पर आता था, वही आज छलांग मार कर ऊपर की ओर आ गया है। इस जिले का नाम गूगल के माध्यम से पूरे विश्व में पहचाने जाने लगा है।
अहलावत ने मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने एक योजना से दो-दो लाभ पहुंचाने का प्रयास किया है। उन्होंने बताया कि अन्नपूर्णा दूध वितरण योजना से एक तरफ जहां यहां की नारी शक्ति ताकतवर होगी, वहीं इस योजना से प्रदेश के पशुपालकों को भी आर्थिक लाभ मिलेगा। समारोह के विशिष्ट अतिथि मंडावा विधायक नरेन्द्र कुमार खींचड़ ने दो जुलाई को महत्वपूर्ण तिथि बताते हुए कहा कि इस दिन को बच्चे बहुत शिद्दत से याद रखेंगे कि इस दिन राज्य सरकार ने अन्नपूर्णा दूध वितरण योजना का शुभारंभ किया था। उन्होंने बताया कि दूध पिलाने वाली पहली मां होती थी, लेकिन अब बच्चों के दूसरी मां यह स्कूल हो गया जो दूध पिलाता है। उन्होंने बच्चों को समझाया कि वे उतना ही दूध लें, जितना पी सकते हों। ज्यादा दूध लेकर फेंका जाये तो यह व्यवस्था ठीक नहीं है।
समारोह की अध्यक्षता करते हुए जिला कलक्टर दिनेश कुमार यादव ने बताया कि राज्य सरकार की यह महत्वाकांक्षी योजना आज से पूरे प्रदेश में लागू की गई है। उन्होंने बताया कि बच्चे देश का भविष्य है, यदि बच्चे स्वस्थ रहेंगे तो देश स्वस्थ रहेगा और देश स्वस्थ रहेगा तो जल्दी विकास करेगा। जिला कलक्टर ने बताया कि राज्य सरकार की अन्नपूर्णा दूध वितरण योजना के लागू होने से बच्चे कुपोषण के शिकार होने से बचेंगे। उन्होंने कहा कि यह योजना तभी सफल हो सकती है जब कि सभी का सहयोग मिले। उन्होंने बताया कि प्रदेश के जहां 66 हजार 506 राजकीय विद्यालयों एवं मदरसों के 62 लाख बालकों को इस योजना का लाभ मिलेगा, वहीं इस जिले के एक हजार 559 विद्यालयों एवं मदरसों के कक्षा एक से पांच बच्चों को 150 मिली. तथा 6 से 8 कक्षा के बच्चों को 200 मिली. दूध दिया जायेगा। इस योजना में कक्षा एक से पांच तक के लाभान्वित छात्रा 65 हजार 107 तथा 6 से 8 तक के 41 हजार 982 बच्चों को सप्ताह में तीन दिन वैकल्पिक रूप से प्रार्थना पूरी होने के बाद दूध दिया जायेगा।
जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक मुकेश कुमार मेहता ने बताया कि जिले में इस योजना के लिये बर्तन खरीदने के लिये 38 लाख 97 हजार 500 रूपये विद्यालयों को दिये जा चुके हैं और गिलास खरीदने के लिये 19 लाख 30 हजार 806 रूपये की राशि जारी की जा चुकी है।इसी प्रकार कक्षा एक सेपांच तक के छात्रों के लिये दूध क्रय करने के लिये 69 लाख 55 हजार 515 रूपये की राशि विद्यालयों की प्रबंध समिति को दी जा चुकी हैऔर कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों के लिये दूध खरीदने के लिये63 लाख 38 हजार 680 रूपये की राशि भी जारी कर दी गई है।
समारोह के अतिथियों ने टॉपर बालिकाओं को एक लाख के चैक और 6 बालिकाओं को स्कूटी का वितरण भी किया। इस अवसर पर नगर परिषद के सभापति सुदेश अहलावत, ओम प्रकाश आबूसरिया, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी प्राथमिक मनीष चाहर, माध्यमिक अम्मी लाल मूंड, अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक रमसा विनोद जानू,एसएसए सुभाष ढाका, साक्षरता के नरेश मान, सहायक निदेशक विप्लव न्यौला, सहित सभी जिला अधिकारी उपस्थित थे।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar