न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

साल 2018 के जीवन रक्षा पदक अवार्डों के लिए आवेदन मांगे

लुधियाना। डिप्टी कमिश्नर लुधियाना श्री प्रदीप कुमार अग्रवाल ने बताया कि भारत सरकार के गृह मंत्रालय की तरफ से साल 2018 के लिए ’जीवन रक्षा पदक’ श्रंखला के अवार्ड प्रदान किये जाने हैं, इस लिए इन अवार्ड के लिए पात्रता पूरी करने संबंधी अर्जियों की माँग की गई है।
श्री अग्रवाल ने इस बारे विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि इन अवार्डों  के लिए राज्य सरकार की तरफ से निर्धारित शर्तों और अपेक्षित योग्यता पूरी करने संबंधी की सिफारशें आगे केंद्र सरकार को 15 सितम्बर तक भेजी जानी हैं। इसलिए जिला लुधियाना जो भी नागरिक कोई जीवन रक्षा पदक अवार्ड के लिए योग्यता पूरी करता है तो वह कार्यालय जिला लोक संपर्क अफसर, पुलिस कमिशनरेट बिलडिंग, जिला प्रशासनिक परिसर, लुधियाना में संपूर्ण दस्तावेजी प्रमाण के साथ 25 अगस्त 2018 तक आवेदन जमा करवा सकता है।
डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि नियत तारीख के बाद प्राप्त हुए किसी आवेदन पर विचार नहीं किया जाएगा, क्योंकि राज्य सरकार की तरफ से यह आवेदनपत्र आगे सिफारिश के साथ आनलाइन भेजी जानी हैं। श्री अग्रवाल ने बताया कि भारत सरकार की तरफ से यह ’जीवन रक्षा पदक’ अवार्ड किसी व्यक्ति की तरफ से किसी दूसरे का मानवीय जीवन को बचाने पर सम्मान के तौर पर दिए जाते हैं। उन्होंने कहा कि जान बचाने वाले व्यक्ति की तरफ से किसी हादसे के पीडित डूबने, आग, लैंड स्लाईडिंग, किसी जानवर के हमले के पीड़ित, आसमानी बिजली, खानों में लापता होने वाले किसी व्यक्ति को बचाना आदि जैसे बहादुरी वाले काम किए होने चाहिएं।
डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि यह अवार्ड तीन वर्गों में विलक्षण काम करने वाले को उत्साह बनाने के लिए दिया जाता है, पहला सर्वोत्तम जीवन रक्षा पदक, इस में किसी बेहद भयानक स्थिति में अपनी जान भयानक जोखिम में डाल कर किसी की जान बचाना, दूसरा उत्तम जीवन रक्षा पदक इस में किसी गंभीर स्थिति में अपनी जान की परवाह न करते भी किसी और की जान बचाई हो जबकि जीवन रक्षा पदक तीसरा वह अवार्ड है जिसमें बचाव कार्य करने वाला बुरी तरह जख्मी हो गया हो।
श्री अग्रवाल ने बताया कि इन अवार्डों के लिए आम नागरिक जिसने अपनी जान की परवाह ना करते हुए दूसरे की जान बचाई हो सहित आर्म्ड फोर्स, पुलिस फोर्स और अग्नि षमन दस्तो के मैंबर भी योग्य होंगे, जिन्होंने अपनी ड्यूटी से अलग तौर पर सेवा करते ऐसा विलक्षण कार्य किया हो। राज्य सरकार की तरफ से भेजी इन सिफारशें को उच्च स्तरीय समिति की तरफ से जाँच पडताल की जाती है और इस पर अपनी तरफ से अनुषंसा कर प्रधान मंत्री और राष्ट्रपति कार्यालय को भेजी जातीं हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar