National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

सीमांचल बाढ़ पीड़ितों को जमीयत की ओर से घरों का उपहार

नई दिल्ली । ठंड के बढ़ते प्रकोप के मद्देनजर सीमांचल में भयंकर बाढ़ से प्रभावितों के समक्ष सिर छिपाने के लिए आश्रय की बड़ी समस्या थी। बाढ़ प्रभावितों के लिए राहत का कार्य कर रही देष के महत्वपूर्ण संगठन जमीयत उलमा ए हिन्द ने आज किशनगंज में 54 घर बाढ़ प्रभावितों के हवाले किए। इस अवसर पर संगठन के महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने जमीयत की निर्माण परियोजनाओं का उद्घाटन भी किया और बहुत खुशी के साथ चाबियाँ वितरित की। उल्लेखनीय है कि इससे पहले भी जमीयत उलमा ए हिन्द ने यहां 99 घरों का निर्माण हो चुके है। जिनका उद्घाटन 24 सितंबर 2017 को हो चुका है। सरदस्त कद्दू बाड़ी में 16, घूरना चकचकी में 16 और भोला बस्ती में 13 घरों के निर्माण हुए हैं और इसके अतिरिक्त अन्य मकानों का निर्माण कार्य जारी है।

जमीयत उलमा ए हिन्द महासचिव मौलाना महमूद मदनी ने किशनगंज में 54 घरों की चाबियां जरूरतमंदों के हवाले कीं

मौलाना मदनी ने अपने उद्घाटन उद्बोधन में बाढ़ प्रभावितों के लिए कार्य कर रही जमीयत उलमा ए हिन्द की सेवाओं पर प्रकाश डालते हुए कहा कि असल चीज ईमानदारी है, अगर हम सही इरादे से यह सेवा देंगे तो अल्लाह हमें दुनिया व परलोक दोनों स्थानों में इसका बदल देगा, इसलिए बुनियादी तौर हमें अपनी नीयत ठीक रखनी चाहिए। मौलाना मदनी ने सीमांचल के विभिन्न इलाकों से आए जिलास्तरीय अध्यक्षों और पदाधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा कि अल्लाह ने हमें जरूरत मंदों की मदद के लिए आगे बढ़कर काम करने का यह सुनहरा मौका अता फरमाया है, अन्यथा यह भी हो सकता था कि आज हम उनकी जगह होते और वह हमारी जगह होते तो क्या हाल होता। इसलिए अल्लाह की रजा के लिए यह धर्मार्थ कार्य करना चाहिए। मौलाना मदनी ने कहा कि हमारे पूर्वजों ने हमेशा इस फिक्र को मानवीयता के रास्ते से अल्लाह की रजा हासिल करने के लिए अपनाया है।
इस उद्घाटन से पहले मौलाना मदनी ने रविवार शाम जमीयत उलमा सोपोल के अर्न्तगत गांधी मैदान सुपौल में आयोजित शांति एकता सम्मेलन को भी संबोधित किया। इस अवसर पर स्वामी चेदानन्द सरस्वती महाराज अध्यक्ष, परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश, मौलाना मुहम्मद कासिम, अध्यक्ष जमीयत उलमा बिहार, मौलाना हकीमुद्दीन कासमी और मौलाना मोहम्मद नाजिम इत्यादि ने भी संबोधित किया।
किशनगंज के इस कार्यक्रम में मौलाना मदनी के अलावा जमीयत उलमा ए हिन्द के सचिव मौलाना हकीमुद्दीन साहब कासमी, जमीयत उलमा बिहार के उपाध्यक्ष मुफ्ती जावेद इकबाल साहब कासमी, जमीयत उलमा किशन गंज के अध्यक्ष मौलाना ग्यासुद्दीन साहब कासमी, मुफ्ती ईसा जामी साहब कासमी, मुफ्ती मनाजर नोमानी कासमी सचिव जमीयत उजमा किशन गंज, मौलाना खालिद अनवर, मौलाना मारूफ करखी, मुफ्ती अब्दुल एहसान कासमी, मौलाना अब्दुल बासित, मौलाना नवेद साहब कासमी, मुफ्ती सलमान साहब कासमी, मौलाना अबु सालिहा साहब कासमी, मौलाना इमतियाज साहब कासमी, कारी अब्दुल्लाह साहब जमीयत उलमा के अन्य जिलों के पदाधिकारियों ने भी षिरकत की।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar