National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

हरियाणा में स्कूली शिक्षा को बेहतर बनाने के प्रयास पर कार्यशाला मंगलवार यानि आज 

विजय न्यूज़ ब्यूरो 

नूहं। एस एम सहगल फाउंडेशनऔर लेडी बैमफोर्ड चैरिटेबल ट्रस्ट द्वारा हरियाणा में स्कूली शिक्षा में स्कूल प्रबंधन समिति की सर्वोत्तम कार्य प्रणालियों को साझा करने के लिए आज यानि मगलवार को गाँव घाघस (जिला नूंह) में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया जा रहा है. इस कार्यशाला का उद्देश्य स्कूल प्रबंधन समितियों केसदस्यों कि स्कूलों में भूमिका और उनके काम काज को मज़बूती प्रदान करना है और उन्हे एक ऐसा मंच प्रदान करना है जिसके माध्यम से वह एक- दूसरे के साथ अपने कार्यों और सीख को साझा कर सकें। यह कार्यशाला आज सुबह11:00 बजे से दोपहर 2:00 बजे तक आयोजित की जायेगी. इस अवसर पर श्री खुर्शीद राजका-अध्यक्ष मेवात डेवलपमेंट एजेंसी, नूहं (हरियाणा) एवं श्री राजबीर सिंहआर्य- अतिरिक्त उपायुक्त विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल होंगे.साथ ही श्री दिनेश शास्त्री, जिला शिक्षा अधिकारी, नूहं शिक्षा के अधिकार और स्कूल प्रबंधन समिति की भूमिका पर कार्यशाला में मौजूद प्रतिभागियों से अपने विचार साझा करेगें.इसके अलावाशांति सागर जैन गर्ल्स कॉलेज ऑफ एजुकेशन केप्रिंसिपल श्री देवदत मिश्रा, गैर सरकारी संगठनों के प्रतिनिधि, जेसीबी, एस आर एफ फाउंडेशन के एसएमसी सदस्य भी शामिल होगे.हमारे देश में अप्रैल2009 में निःशुल्क एवं  अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू हुआ था. इस अधिनियम के तहत 6-14 आयु वर्ग के सभी बच्चों को 8 वर्ष की प्रारम्भिक शिक्षा पाने का अधिकार दिया गया है. इस अधिनियम के तहतस्कूल प्रबंधन की देख-रेख के लिए स्कूल प्रबंधन समितियों का गठन किया गया है जिनका कार्य फंड प्रबंधन और स्कूल के कामकाज में पारदर्शिता को बनाए रखना, साथ ही यह सुनिश्चित करनाकि शिक्षा प्रक्रिया कोबेहतर बनांने में छात्रों के माता –पिता, छात्रों और सामाजिक रूप से जिम्मेदार व्यक्तियों की सक्रिय भागीदारी हो।हरियाणा में ऐसे बहुत से संगठन है जो स्कूलों में शिक्षा की स्थिति को बेहतर बनाने के लिए कार्य कर रहे है. शिक्षा विभागगैर सरकारी संगठनों के साथ मिलकर स्कूलों में बुनियादी ढांचा को मजबूत करने, एसएमसी के माध्यम से समुदायों को शामिल करना और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार करनेजैसेकार्य कर रही हैताकि बच्चों को शिक्षा प्राप्त करने की बेहतरीन सुविधाये मिल सकें.

इस कार्यशाला केमुख्य उद्देश्यइसप्रकार है:-

  • एसएमसी के सदस्यों कोआपसी बातचीत और अनुभव साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करना और सामूहिक रूप से समस्याओं के समाधान पर सुझाव देना;
  • एसएमसी सदस्यों काजिला शिक्षा विभाग व अधिकारियों के साथ तालमेल बनाना;
  • एसएमसी के सदस्यों को उनकी भूमिकाओं और जिम्मेदारियों के प्रतिजागरूक करना ताकि वहअपनी समस्याओं कोअधिकारियों के साथ साझा कर सकें. इस कार्यशाला में सहगल फाउंडेशन की मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अजय पाण्डेय, सहगल फाउंडेशनके ट्रस्टी श्री जय सहगल व ग्रामीण सुशासन कार्यक्रम की निर्देशक अंजली मखीजा भी  शामिल होकर शिक्षा की स्थिति में आवश्यकसुधारों पर प्रतिभागियोंके साथ परिचर्चाकरेगी.ऐसी उम्मीद है की यह कार्यशाला हरियाणा में शिक्षा के क्षेत्र में आवश्यक सुधारों को लागू कर बच्चों के उज्ज्वल भविष्य निर्माण में सहायक होगी.

 एस एम सहगल फाउंडेशन के बारे में–

सहगल फाउंडेशनकी स्थापना 1999 में की गयी. सहगल फाउंडेशन ग्रामीण समुदायों के उज्जवल भविष्य निर्माण के प्रति समर्पित है। हम पूरे भारत में ग्रामीण लोगों को अपना जीवन और अधिक सुरक्षित व समृद्ध बनाने के लिए प्रेरित व सशक्त देखना चाहते है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar