National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

हिंदी चुटकुले : कुछ मज़ेदार हो जाये

कुछ मज़ेदार हो जाये!
नेता: हाँ। अब सही समय आ गया है।
जनता: क्या आप देश को लूट खाओगे?
नेता: बिल्कुल नहीं।
जनता: हमारे लिए काम करोगे?
नेता: हाँ। बहुत।
जनता: मंहगाई बढ़ाओगे?
नेता: इसके बारे में तो सोचो भी मत।
जनता: आप हमे जॉब दिलाने में मदद करोगे?
नेता: हाँ। बिल्कुल करेंगे।
जनता: क्या आप देश मे घोटाला करोगे?
नेता: पागल हो गए हो क्या बिलकुल नहीं।
जनता: क्या हम आप पर भरोसा कर सकते हैं?
नेता: हाँ।
जनता: नेता जी…
चुनाव जीत कर नेता जी वापस आये।
अब आप नीचे से ऊपर पढ़ो।

मरने के बाद भी!
पत्नी अपने पति के श्राद्ध पर, खीर और पूरी बना कर छत पर खाना ले गई।
एक कौआ आया और खाने पर चक्कर लगाकर वापस उड़ गया। ऐसा उसने तीन चार बार किया।
पत्नी परेशान हो गई। अचानक ही पड़ोसन भी खाना लेकर छत पर आ गई। इतने में वही कौआ आया और उसकी पूरी लेकर उड़ गया।
पत्नी गुस्से में खाना फ़ेंक कर चिल्लाई, “जीते जी तो ठीक मरने के बाद भी उस कलमुंही का पीछा नहीं छोड़ रहे हो?”

डेढ होशियारी!
एक पैसेंजर ट्रेन इंदौर से भीलवाडा की तरफ रवाना होनी थी। रात दस बजे सभी डिब्बे खचाखच भर गए. हमारे एडमिन जी भी चढ़ तो गए, पर जब उन्हें बैठने तक की जगह नहीं मिली तो उन्हें एक उपाय सूझा।
उन्होंने “सांप, सांप, सांप” चिल्लाना शुरू कर दिया। यात्री लोग डर के मारे सामान सहित उतर कर दूसरे डिब्बों में चले गए। वे ठाठ से ऊपर वाली सीट पर बिस्तर लगा कर लेट गए। दिन भर के थके थे सो जल्दी ही नींद भी आ गई।
सवेरा हुआ, “चाय, चाय” की आवाज पर वे उठे चाय ली और चाय वाले से पूछा कि कौन सा स्टेशन आया है?
तो चाय वाले ने बताया, “इंदौर है।”
फिर पूछा, `इंदौर से तो रात को चले थे?`
चाय वाला बोला, `इस डिब्बे में सांप निकल आया था, इसलिए इस डिब्बे को यहीं काट दिया था।`

मरने की चाहत!
बुजुर्ग पति-पत्नी एक साथ गुज़र गए। जब ऊपर पहुँचे तो चित्रगुप्त ने बहीखाता देख कर एक दूत से कहा, “इन्हें स्वर्ग में ले जाओ।”
दूत उन्हें स्वर्ग में ले गया। एक आलीशान बंगले में ले जाकर बोला, “आप दोनों यहां रहेंगे। यहां हर तरह का आराम है। हर तरह की सुविधा उपलब्ध है। नौकर-चाकर हमेशा आपकी सेवा में रहेंगे। और हां, आप जो भी जब भी खाना पीना चाहें, आपको मिलेगा।”
बुजुर्ग ने पूछा, “अगर हम बीमार हो गए तो डॉक्टर कहां मिलेगा?”
दूत ने बताया, “स्वर्ग में कभी कोई बीमार नहीं होता।”
बुजुर्ग लंबी सांस छोड़ते हुए पत्नी से बोला, “अगर हम लोग अपने डॉक्टर की बात न मान कर, फल-सब्जियों की बजाय, अपनी मनमर्जी की चीजें खाते पीते, तो कई साल पहले यहां पहुंच जाते।”

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar