न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

एडिडास इंडिया ने की ‘सोल’ फुल पहल सस्टेनेबलीटी की दिशा में बड़ा कदम

– इनोवेशन को नई ऊंचाई देने के लिए एडिडास ने ग्रीनसोल से साझेदारी की –

विजय न्यूज़ ब्यूरो
नई दिल्ली। स्पोर्ट्सवियर की दिग्गज कम्पनी एडिडास ने पर्यावरण संरक्षण और सर्कुलर इकनोमी पर जोर देते हुए स्थायित्व सस्टेनेबलीटी) को बढ़ावा देने की पुरजोर कोशिश की है जिसकी नई मिसाल ग्रीनसोल से इस जाने-माने ब्राण्ड का यह महत्वपूर्ण करार है।
सस्टेनेबलीटी की दिशा में कदम बढ़ाते हुए एडिडास ने इस भारतीय एनजीओ ग्रीनसोल से करार किया है। इसके तहत पुराने और बेकार पड़े फुटवियर से आरामदेह और लाइट वेट स्लिपर बनाने का अभूतपूर्व कार्य किया जाएगा। ‘हम खेल के दम पर हम जिन्दगियां बदल सकते हैं’ – अपने इस बुनियादी मूल्य के साथ एडिडास हमेशा जिन्दगियां बदलने में सबसे आगे रहा है। नई साझेदारी में भी कम्पनी का यह विश्वास जीवंत होगा और पुराने/ बेकार हो गए जूतों को अपसाइकल करने की अनोखी पहल सफल होगी। एडिडास इंडिया के प्रबंध निदेशक नीलेंद्र सिंह ने बताया, ‘‘खेल के दम पर हम ज़िन्दगियां बदल सकते हैं’ – ये हमारा न केवल बुनियादी मूल्य है बल्कि हम जो भी करते हैं क्यों करते हैं उसका मकसद भी है। ग्लोबल ब्राण्ड होने के नाते हम लोगों को प्रोत्साहन और सक्षमता देते हैं कि वे उनकी ज़िन्दगी में खेल की ताकत का लाभ उठायें। सस्टेनेबलीटी को बिजनेस माॅडल का अभिन्न हिस्सा बनाने वाली गिनती की कम्पनियों में हमारा नाम है क्योंकि हम प्रोडक्ट के स्तर तक सस्टेनेबलीटी ले जाते हैं। ग्रीनसोल को साझेदार बना कर एडिडास इंडिया में हम पुराने/ बेकार जूतों से न्यूनतम खर्च पर स्लिपर तैयार करेंगे और गांवों के गरीब तबकों के बच्चों को देंगे जो आज भी नंगे पांव स्कूल जाते हैं।’’ एडिडास दिसंबर 2016 से ही ग्रीनसोल से जुड़ा है और अपसाइकल फुटवियर डोनेट करने के कई अभियान किए हैं।
इस साझेदारी की घोषणा पर ग्रीनसोल के को-फाउंडर श्रियांश भंडारी ने कहा, ‘‘ग्रीनसोल डिज़ाइन और शोध एवं विकास पर निवेश कर यह सुनिश्चित करेगा कि जूते का प्रत्येक हिस्सा, केवल सोल या इनसाॅक नहीं, अपसाइकल/रीसाइकिल किया जाए। एडिडास जैसे ब्राण्ड से साझेदारी इस तथ्य पर जोर देती है कि सस्टेनेबलीटी के लिए अभी बहुत काम करने हैं और ग्लोबल ब्राण्ड व्यापक स्तर पर इसमें मदद कर पाएंगे। इससे जन-जन में धरती माता के प्रति आभार व्यक्त करने की भावना आएगी।’’ इस साझेदारी का मुख्य लक्ष्य गरीब तबकों के कक्षा 1 से 10 के बच्चों तक पहुंचना है। महाराष्ट्र के जवाहर से लेकर ओडिशा के दरिंगबादी गांव तक और तेलंगाना के निज़ामाबाद से उत्तर प्रदेश के प्रयागराज तक ऐसे बच्चों को इस साझेदारी का लाभ मिलेगा जिनके लिए बेसिक फुटवियर भी लक्ज़री है।

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar