National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

ऑल इंडिया आफ्थल्मॉलजिकल सोसाइटी के चार दिवसीय वार्षिक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का हुआ समापन

  • नेत्रविज्ञान से संबंधित देश के सबसे बड़े सम्मेलन में भारत समेत 22 देशों के 7000 प्रतिष्ठित नेत्र चिकित्सकों ने लिया हिस्सा
  • ए-डॉट कन्वेंशन में आयोजित सम्मेलन में नेत्रविज्ञान के क्षेत्र में हो रहे नवीन प्रयोग से भी अवगत हुए प्रतिभागी डॉक्टर व आगंतुक

विजय न्यूज़ ब्यूरो
गुरुग्राम। साइबर सिटी में आयोजित हुए ऑल इंडिया आफ्थल्मॉलजिकल सोसाइटी (एआईओएस) के 78वें वार्षिक अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का समापन हो गया। नेत्रविज्ञान से संबंधित देश के सबसे बड़े सम्मेलन में भारत समेत 22 देशों के 7000 से अधिक प्रतिष्ठित नेत्र चिकित्सकों ने हिस्सा लिया। ए-डॉट कन्वेंशन में आयोजित इस चार दिवसीय सम्मेलन में नेत्रविज्ञान के क्षेत्र में हो रहे नवीन प्रयोगों से भी देश-विदेश से पहुंचे प्रतिभागी डॉक्टर व आगंतुक अवगत हुए। समारोह का मुख्य लक्ष्य आम लोगों को नेत्र से संबन्धित बीमारियों से अवगत करवाना, नेत्र सुरक्षा के लिए जागरूक करना व नेत्र चिकित्सा के क्षेत्र के नवांकुरों को बेहतर प्रशिक्षण देना था। इसका उद्घाटन नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत के हाथों हुआ था। जहां उनके साथ राज्यसभा सदस्य लेफ्टिनेंट जनरल डीपी वत्स भी मौजूद थे।

374 सत्रों में 2000 से ज्यादा विशेषज्ञ चिकित्सकों ने दिया व्याख्यान: बक़ौल, ऑल इंडिया आफ्थल्मॉलजिकल कांन्फ्रेंस (एआईओसी)-2020 के मुख्य आयोजन अध्यक्ष डॉ. इंदर मोहन रुस्तगी ‘चार दिनों तक चले सम्मेलन के 18 हॉल में तकरीबन 2000 डॉक्टरों ने व्याख्यान दिया। देश के सभी भागों में लोगों को बेहतरीन नेत्र चिकित्सा मुहैया हो सके इसके लिए युवा डॉक्टरों को भी प्रशिक्षित किया गया। सम्मेलन के 374 सत्र में नेत्र चिकित्सा से संबन्धित विभिन्न कार्यशालाएं भी लगी जिसके आकर्षण का केंद्र वीडियो के जरिए प्रशिक्षण व वेट लैब रहा। सम्मेलन में भारत के 7000 से अधिक प्रतिभागी व यूके, यूएस, जापान, इजिप्ट, मलेशिया, इंडोनेशिया, अफगानिस्तान और इज़राइल समेत 22 देशों के 104 प्रख्यात नेत्र चिकित्सक भी अपना अनुभव साझा किया।

एक छत के नीचे जुटे देश के कई प्रतिष्ठित नेत्र चिकित्सक : ऑल इंडिया आफ्थल्मॉलजिकल कांन्फ्रेंस (एआईओसी)-2020 में प्रदेश के नेत्र चिकित्सकों के साथ-साथ देश के कई प्रतिष्ठित नेत्र विशेषज्ञों ने भी शिरकत किया। इसमें एआईओएस के अध्यक्ष डॉ. महिपाल एस सचदेव, पूर्व अध्यक्ष डॉ. एस नटराजन, महासचिव डॉ. नम्रता शर्मा, कोषाध्यक्ष डॉ. राजेश सिन्हा, साइंटिफिक समिति के अध्यक्ष डॉ. ललित वर्मा, एआईओसी के वरिष्ठ आयोजन अध्यक्ष डॉ. एके खुराना, आयोजन अध्यक्ष डॉ. अजय शर्मा, कोषाध्यक्ष डॉ. धीरज गुप्ता, आयोजन सचिव डॉ. नरिंदर कुमार तनेजा समेत कई प्रतिष्ठित हस्तियां शामिल रहे।

स्वस्थ राष्ट्र निर्माण में नेत्र चिकित्सकों का योगदान अहम : अमिताभ कांत
समारोह के उद्घाटन सत्र में पहुंचे नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने एआईओएस की सराहना करते हुए कहा था कि ‘हमारे देश में तकरीबन 12 मिलियन लोग अंधापन की बीमारी से जूझ रहे हैं। यह आंकड़ा और भी भयावह लगता है जब हम देखते हैं कि दुनिया भर में अंधापन से ग्रसित 30 फीसद मरीज भारत में है। देश को अंधेपन की बीमारी से मुक्त बनाना एक बहुत बड़ा चैलेंज है और हमें खुशी है कि देश के नेत्र चिकित्सक इसमें अपना अमूल्य योगदान दे रहे हैं। एआईओएस जैसे संस्था का स्वस्थ भारत के निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान रहा है। संस्था से जुड़े हजारों चिकित्सक न सिर्फ शहरी क्षेत्रों में बल्कि ग्रामीण इलाकों में भी लोगों तक बेहतर नेत्र उपचार मुहैया करवा रहे हैं।‘

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar