National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

बताएँ कैसे

कहाँ से लाऊ में अपने बच्चे के लिए
किताबो के पैसे

हौसला तो बहुत है उनमे कुछ कर गुजरने की
नया इतिहास रचने की
अपनी मजबूरी का आईना उसे दिखाऊ कैसे

वो अपनी मर्जी से उड़ नही सकते
उसे बताऊ कैसे

एक वक्त की रोटी खाने को नसीब नहीं
बदनसीब है ऐसे

दिन भर की मजदूरी से खाये तो
बच्चों को पढ़ाये कैसे

इस महँगाई में उज्वल भविष्य के
सपने सजाये कैसे

अपनी लाचारी बेबसी को , अपने
बच्चे को बताये कैसे

गुलशन पाण्डेय 
मधेपुरा , बिहार

Print Friendly, PDF & Email
Translate »