National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

साहित्य संरक्षक सम्मान से सम्मानित हुई बिहार की बेटी मधुबनी जिला निवासी निभा कुमारी

विजय न्यूज़ ब्यूरो
हरियाणा, हिसार। साहित्य के क्षेत्र में साहित्य के प्रति लगन , अनुराग एवं समर्पण को देखते हुए साहित्य राज परिवार हरियाणा ( हिसार ) परिवार की ओर से बिहार के मधुबनी जिला निवासी कवियत्री / लेखिका निभा कुमारी को साहित्य राज परिवार की ओर से साहित्य संरक्षक सम्मान वर्ष 2019 का सम्मान मिला। बता दे की निभा कुमारी को साहित्य के क्षेत्र में बहूमूल्य योगदान रहा हैं। हिंदी भाषा को तदवद रूप से अंगिकित करने में निभा कुमारी का भरस्क प्रयास रहा हैं। निभा कुमारी कि बहुत सी रचनाएँ हैं। जिसमें लघुकथा बलिदान , माँ , प्रयास , स्वार्थ के घेरे , नोंक झोंक , सौभाग्य , सजा , मजदूरी , रक्षाबंधन का उपहार , इंसानियत , अपना पराया , फैसला , चिड़िया की कहानी , गोरैया की कहानी , मुठभेड़ , नई सुबह एवं कविता होली में हुड़दंग , कृष्ण कन्हैया , बिटिया , अभी तो , दिवाली , सर्दी आई , पर्यावरण , कुपोषण , एक झलक : आईसीडीएस , 1857 का विद्रोह , एनिमिया , दहेज निषेध , ओआरएस का घोल , सफाई जैसे देश के अनेक पत्र – पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित हो चुकी हैं। साहित्य राज परिवार के द्वारा सम्मान समारोह निभा कुमारी को साहित्य संरक्षक सम्मान प्राप्त हुआ। उनको यह सम्मान संस्थापिका / अध्यक्षा राजबाला राजा , छंदाचार्य / महासचिव शैलेंद्र खरे “सोम” सचिव रामनरेश गुप्ता “सावन” के कर कमलों द्वारा प्राप्त हुआ। वही साहित्य राज परिवार के द्वारा बहुत – बहुत शुभकामना दी एवं उज्जवल भविष्य की कामन की। सम्मान मिलने पर उनकी माँ सुनिता देवी , चाचा वशिष्ठ कुमार , पति सुधीर कुमार , भाइ अवधेश कुमार , अखिलेश कुमार एवं परिवार के अन्य सदस्यों ने प्रसन्नता व्यक्त की है। आपको बता दे की निभा कुमारी की पुस्तकें भी प्रकाशित हुई हैं।

Print Friendly, PDF & Email
Translate »