न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

घर-घर राशन स्कीम पर बीजेपी का आरोप- राशन माफिया के नियंत्रण में है दिल्ली सरकार, रविशंकर प्रसाद ने केजरीवाल से पूछे सवाल

नई दिल्ली। केंद्र और दिल्ली सरकार के बीच अब ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ को लेकर भी तकरार शुरू हो गया है. केंद्रीय मंत्री और बीजेपी नेता रविशंकर प्रसाद ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दिल्ली सरकार से पूछा है कि अभी तक यहां वन नेशन वन राशन कार्ड को लागू क्यों नहीं किया गया. साथ ही केंद्रीय मंत्री ने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार राशन माफियाओं के नियंत्रण में है.

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा, ‘अरविंद केजरीवाल हर घर अन्न की बात कर रहे हैं. ऑक्सीजन पहुंचा नहीं सके, मोहल्ला क्लीनिक दवा तो पहुंचा नहीं सके. दिल्ली सरकार राशन माफिया के नियंत्रण में है. देश के 34 राज्यों और केंद्र ​शासित प्रदेशों ने वन नेशन वन राशन कार्ड लागू किया. सिर्फ तीन प्रदेशों असम, पश्चिम बंगाल और दिल्ली ने इसे लागू नहीं किया. अरविंद केजरीवाल आपने दिल्ली में वन नेशन वन राशन कार्ड लागू क्यों नहीं किया, आपको क्या परेशानी है? देश में अगर 34 राज्य वन नेशन वन राशन कार्ड योजना को लागू करने के लिए तैयार हैं तो दिल्ली के मुख्यमंत्री को क्या समस्या है. दिल्ली के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अगर घर-घर पहुंचने की बात करते हैं तो इस योजना से क्या दिक्कत है.’

दिल्ली सरकार की घर-घर राशन डिलीवरी योजना पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, “ये होम डिलीवरी देखने में बहुत अच्छी लगती है लेकिन इसके थोड़ा अंदर जाओ तो इसमें स्कैम के कितने गोते लगेंगे ये समझ में आ जाएगा. आप (अरविंद केजरीवाल) अपना प्रस्ताव भेजें या भारत सरकार से जो अनाज जाता है उसी पर खेल खेलेंगे.” उन्होंने बताया, केंद्र सरकार देशभर में 2 रुपये किलो गेंहु और 3 रुपये किलो चावल की व्यवस्था कराती है. प्रधानमंत्री ग्रामीण योजना के तहत पिछले साल नवंबर तक 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दिया गया था. इस साल भी नवंबर तक मुफ्त दिया जाएगा. इस व्यवस्था पर सालाना दो लाख करोड़ रुपये खर्च किया जा रहा है.

सीएम केजरीवाल का जवाब
जवाब में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा, “आज लोग केंद्र में ऐसा नेतृत्व देखना चाहते हैं जो, पूरा दिन राज्य सरकारों को गाली देने और उनसे लड़ने की बजाय, सबको साथ लेकर चले. देश तब आगे बढ़ेगा जब 130 करोड़ लोग, सभी राज्य सरकारें और केंद्र मिलकर टीम इंडिया बनकर काम करेंगे. इतना गाली गलौज अच्छा नहीं.”

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar