National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: विचार

Total 1230 Posts

व्यंग्य : भैंस माँगे कांँकड़े, सरकार माँगे आँकड़े

जब-जब सरकार को देखता हूँ तब-तब मुझे सरकार के बजाए भैंस दिखाई देती है। भैंस को देख लो या सरकार को देख लो। सरकार और भैंस समान है क्योंकि भैंस

असली नकली अंग्रेजी दवाइयों का गोरखधंधा

हमारे देश में अंग्रेजी दवाइयों ने घर घर में अपना साम्राज्य स्थापित कर लिया है। जिसे देखो अंग्रेजी दवाइयों के पीछे भागता मिलेगा। सामान्य बीमारियों से लेकर असाध्य बीमारियों की

चंद सिक्कों के लिए देश के शत्रु बनने वाले पुलिसकर्मी

जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह की गिरफ्तारी के बाद लगातार जिस तरह के खुलासे हो रहे हैं, , वह वाकई दिल दहलाने वाले हैं। यकीन ही नहीं होता कि

न्यायप्रिय व धर्मनिरपेक्ष शासक थे ‘छत्रपति शिवाजी’

मराठा शासक छत्रपति शिवाजी का नाम एक बार फिर चर्चा में आ गया है। ‘छत्रपति शिवाजी’ के नाम से जुड़ा ताज़ा विवाद छिड़ा है एक ऐसी पुस्तक को लेकर जिसका

इलाहाबाद के रोशनबाग से भी महिलाओं की हुंकार

प्रयागराज का रोशनबाग अब देश का दूसरा शाहीनबाग बन गया है।यहां कोई अगुवा नही है फिर भी लगातार आवाज बुलंद हो रही है।ये आवाज और कोई नही पर्दानशीं औरतें बुलंद

क्या मुस्लिम महिलाएँ और बच्चे अब विपक्ष का नया हथियार हैं?

सीएए को कानून बने एक माह से ऊपर हो चुका है लेकिन विपक्ष द्वारा इसका विरोध अनवरत जारी है। बल्कि गुजरते समय के साथ विपक्ष का यह विरोध “विरोध” की

संघ को मानवता की दृष्टि से समझे

दक्षिण दिल्ली के जसोला में डॉ. हेडगेवार स्मारक न्यास एवं भगवान महावीर रिलीफ फाउंडेशन ट्रस्ट के संयुक्त प्रयासों से प्रारंभ हुए मेडी-डायलिसिस सेंटर का उद्घाटन करते हुए राष्ट्रीय स्वयं सेवक

सिरे नहीं चढ़ा पाये विपक्षी एकता के प्रयास

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी द्वारा केंद्र सरकार विरोधी दो दर्जन विपक्षी दलों की एकता को लेकर बुलाई गई बैठक

समय की मांग है ‘लोक संपत्ति नुकसान निवारण अधिनियम, 1984’ में संशोधन

हमारे देश में लोकतांत्रिक व्यवस्था का झंडा बेहद बुलंद है, देश में इसकी जड़ें बेहद गहरी हैं। हमारे वतन में लोगों को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए अभिव्यक्ति

कक्षा एक के 60 फीसदी बच्चे नहीं पढ़ पाते अक्षर

देश की स्कूली शिक्षा की गुणवत्ता को लेकर किए जा रहे तमाम प्रयासों के बावजूद इसमें कोई विशेष सुधार नजर आ रहा है। आज भी पांचवी कक्षा तक के बच्चे

छपाक- एसिड हमलों का सिनेमाई दस्तावेज

एसिड अटैक महिलाओं के प्रति हिंसा का क्रूरतम रूप है. एसिड हमला एक ऐसा सस्ता और सुलभ हथियार है जिसका उपयोग बदला लेने के लिये किया जाता है. महिलाओं से

दिल्ली को एक अर्जुन चाहिए

दिल्ली में विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है और चुनावी सरगर्मियां गरमा रही है। इन चुनावों में भाजपा, कांग्रेस एवं आप के बीच संघर्ष होता हुआ दिखाई दे रहा

कमिश्नर सिस्टम : क्या आईएएस के मिथक को तोड़ सकते है आईपीएस

नोयडा और लखनऊ में आरम्भ की गई पुलिस आयुक्त प्रणाली के बहाने देश के आईपीएस संवर्ग के समक्ष पुलिस की जनोन्मुखी छवि बनाने की चुनौती भी है। भारत मे परम्परागत

चंडीगढ़ को पहचान देता ‘सूफ़ी आस्तान-ए-रामदरबार’

1947 में हुए भारत-पाक विभाजन के पश्चात् पंजाब के पश्चिमी हिस्से के पाकिस्तान में चले जाने तथा पश्चिमी पंजाब से पूर्वी पंजाब अर्थात भारत की तरफ़ आने वाले हिंदू व

मुद्दे कौन उठा रहा है, इसे ना देखें

यकीन मानिए हम उस हर विचारधारा के खिलाफ और विरोध में हो जो कट्टर है,जो मानवता के खिलाफ है,जो बांटने का काम करती है,जो आपस में लड़ाने का काम करती

काश कोई मानवता के पक्ष में बोले!!!

“एंटी नैशनल”एक शब्द है जो कि आजकल बहुत अधिक प्रचलित है।ख़ैर,असल में”छपाक”की निर्माता और मुख्य किरदारा के जेएनयू जाने से एकदम भूचाल सा गया।कोई बात नहीं।इस तरह के भूचाल आते

मोदी करेंगे महंगाई से दो-दो हाथ

भारत की राजसत्ता दूसरी बार सँभालने के बाद भाजपा सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लगता है महंगाई से दो दो हाथ करने पड़ रहे है। जन साधारण को फिलहाल

व्यंग्य : यारों ये शूल चुभाओ कोई बेवकूफ आया है!

कर्ज लेकर महंगी शादी करना बहुत भारी समझदारी है। चमकदार बड़े-बड़े टेंट और 1 दिन के लिए बारात में ढेरों गाड़ियां लहराना गजब का साहस है! डीजे, ढोल, बैंड, ताशा

रेप केस के नाबालिग दोषियों पर भी तो चले कानूनी चाबुक

निर्भया के साथ बलात्कार और फिर उसकी हत्या करने वाले चारों गुनाहगारों को आगामी 22 जनवरी को फांसी की सजा दे दी जाएगी। फांसी का समय सुबह 7 बजे रहेगा।

व्यक्तित्व निर्माण में सहायक सिद्ध होता है दान

जो हम देते हैं वो ही हम पाते हैं ‘ दान के विषय में हम सभी जानते हैं। दान, अर्थात देने का भाव, अर्पण करने की निष्काम भावना। भारत वो

मकर संक्रांति पर गरीबों और जरूरतमंदों को दान पुण्यकारी

भारत त्योहारों का देश है जिसमें देशवासी उमंग और उत्साह के साथ शामिल होकर अपनी खुशियों का इजहार करते है। लोकमंगल के त्योहार देश की सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक बुनियाद

Translate »