National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: ऋतुपर्ण दवे

Total 7 Posts

अर्थव्यवस्था बेपटरी हुई है पलटी नहीं

भारत की अर्थव्यवस्था इस सदी के सबसे बुरे दौर से गुजर रही है. इसको लेकर चिन्ता स्वाभाविक है. वैश्विक महामारी के बीच तमाम विकसित देशों का भी यही हाल है.

नया दौर! और कब तक बाढ़ का पुराना ठौर?

स्वतंत्रता के बाद देश में यदि कुछ तय है तो वह है कुछ खास प्रदेशों के निश्चित इलाकों में बाढ़ की विभीषका. यह बात अलग है कि किसी साल यह

जब कोरोना का आया उफान तब बेफिक्र हुआ इंसान!

कोरोना पर हर रोज चौंकाने वाले आंकड़े भले ही दुनिया भर की सरकारों के लिए चिन्ता का बड़ा कारण हों लेकिन यह भी सच है कि आज दुनिया में कहीं

फरमान! कोरोना बीच गुरू जी बाँटे घर-घर ज्ञान..

जब समूची दुनिया कोरोना के संक्रमण काल को झेल रही हो, उस दौर में नौनिहालों और देश के भावी भविष्य के शिक्षा की चिन्ता स्वाभाविक है, होनी भी चाहिए. लेकिन

दम तोड़ता पर्यावरण, संतुलन खोती प्रकृति..!

आज प्रकृति ऐसे बदले स्वरूप में देखने को मिल रही है जिसको किसी ने कभी सोचा नहीं होगा. अब तो स्थितियां इतनी बदतर हो गई हैं कि मौसम के छिन-पल

क्या ‘केजरीवाल फॉर्मूला’ बदलेगा राजनीति का चेहरा..?

क्या भारतीय राजनीति में दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 के नतीजों ने वायदों को नकारने और हकीकत को स्वीकारने एक नई शुरुआत कर दी है? या भारतीय मतदाता ने अपनी परिपक्वता

Skip to toolbar