National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: नीरज त्यागी

Total 7 Posts

आयी शर्दियाँ

ठिठुरन बढ़ गयी भालू मामा, सर्दियां देखो फिर से आई। छोटी सी ये चिड़िया तुम्हारी, ठंड से बहुत ही कपकपाई।। बहुत बड़ा घर है तुम्हारा मामा, इसलिए  मैं  मामा  घर 

यादें

पुरानी तस्वीरों में यादों को जिंदा रखते है। कुछ लोग अभी भी रिश्तों को जिंदा रखते है।। पुराने किवाड़ों को रोज साफ कर रहे हैं। कुछ लोग अभी भी रिश्तों

कविता : चुनावी वादे

नेताजी फिर आ गये ले के वादे हज़ार। इतने उत्साही है,लगता है कर देंगे बेड़ा पार।। चुनावो में करते है हर बार खूब प्रचार। हो जाये चुनाव फिर दिखते नही

कविता : माँ दर्शन दो

शेर की सवारी, माँ लगे बड़ी प्यारी, आँखों मे मुस्कान धरे, एक बार आजाओ मेरे द्वारे। अष्ट भुझा धारी, माँ,राक्षसों की संहारी, माँ लगे बड़ी ही प्यारी, दरबार फिर बुलाओ

बाल कविता : स्कूटी की सवारी

नई स्कूटी लेकर आया राजू भालू, उसका दोस्त चिम्पू बंदर है बहुत चालू। मीठी बातो से राजू को बहकाता, रोज उसकी स्कूटी मजे से चलाता।। एक दिन चिम्पू का चौराहे

कविता : सब जान कर अनजान

किस कदर अनजान बना रहता है, अब तुझमे इंसान कहाँ रहता है। चेहरा तो रोज देखता है तू आईने में, उसमे रूह का पाप कहाँ दिखता है। आस्तीन पर कई

सोनाक्षी जी और कौन बनेगा करोड़पति

20 सिंतबर की रात के समय अपने सारे कार्यो से निबट कर रोज की तरह कोन बनेगा करोड़पति देखने बैठ गया।हर बार के शुक्रवार की तरह इस बार भी कोई

Translate »