National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: जावेद अनीस

Total 34 Posts

अस्मा जहांगीर- खामोश शहर में बगावत का चिराग

दक्षिण एशिया की मशहूर मानवअधिकार कार्यकर्ता अस्मा जहांगीर का 66 साल की उम्र में देहांत हो गया है. उनकी मौत पाकिस्तान के लिबरल और लोकतंत्रवादियों के लिए बहुत बड़ा धक्का

सतत विकास लक्ष्य के आईने में सस्ती और टिकाऊ ऊर्जा तक पहुंच का सवाल

वर्ष 2000 में संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा सहस्राब्दि विकास के 8 लक्ष्य तय किये थे. जिसका मकसद 2015 तक दुनिया भर में गरीबी, स्वास्थ्य, मृत्यु दर, शिक्षा, लिंगभेद, भुखमरी जैसी

आम आदमी पार्टी ने अपनी संभावनाओं को खुद डकार लिया है

इस देश की राजनीति में बदलाव चाहने वालों के लिये “आम आदमी पार्टी” का सफर निराश करने वाला है हालाकि इसका एक दूसरा पक्ष यह हो सकता है कि अन्ना,

शिव’राज’ के बारह साल और आगे का मुकाम

मध्यप्रदेश में कांग्रेस को सत्ता से बेदखल हुए 14 साल हो गए हैं, इस दौरान शिवराज सिंह चौहान ने बीते 29 नवंबर को बतौर मुख्यमंत्री अपने बारह साल पूरे कर

शिव’राज’ के एक दर्जन साल

29 नवंबर को शिवराज सिंह चौहान ने बतौर मुख्यमंत्री अपने बारह साल पूरे कर लिए हैं भारतीय राजनीति के इतिहास में कुछ चुनिन्दा राजनेता ही ऐसे हुए हैं जिन्होंने यह

मान लिया बच्चे देश का भविष्य हैं लेकिन वे वर्तमान भी तो हैं

20 नवम्बर 1989 को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा द्वारा “बाल अधिकार समझौते”को पारित किया था. जिसके बाद से हर वर्ष 20 नवम्बर को अंतरराष्ट्रीय बाल दिवस के रूप में

प्राथमिक विफलता ? शिक्षा अधिकार कानून के सात साल बाद

भारत के दोनों सदनों द्वारा पारित ऐसा कानून जो देश के 6 से 14 के सभी बच्चों को निःशुल्क,अनिवार्य और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की बात करता है उसके सात साल

ब्रांड राहुल

सोशल मीडिया के इस दौर में राजनीति में नेता ब्रांडिंग और गढ़ी गयी छवियों के सहारे आगे बढ़ते हैं यहाँ ब्रांड ही विचार है और विज्ञापन सबसे बड़ा साधन, साल

चिनफिंग इज चाइना

चीन विरोधाभासों से भरा देश है, जहाँ एक कम्युनिस्ट शासन व्यवस्था के माध्यम से पूंजीवादी अर्थव्यवस्था का सफल संचालन हो रहा है, चीनी शासक वर्ग इसे चीनी विशेषताओं वाले समाजवाद

चुनाव गुजरात में और दावं पर 2019 है

चुनाव गुजरात में और दावं पर 2019 है  की तरह अनिश्चिताओं से भरे राजनीति के इस खेल में हालत अचानक बदले हुए नजर आ रहे हैं. गुजरात में चुनावी बिगुल

“रागदेश” जिसे अनसुना कर दिया गया

उग्र राष्ट्रवाद के इस कानफाडू दौर में राज्यसभा टेलीविजन ने “राग देश” फिल्म बनायी है जो पिछले 28 जुलाई को रिलीज हुई और जल्दी ही परदे से उतर भी गयी.

Skip to toolbar