न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: अन्य लेख

Total 298 Posts

वंचितों , गरीबों , दलितों , पिछड़ों की व्यथा भी तो वही समझ सकता है जिसने गरीबी को पास से देखा हो 

कहते है न की जब कोई फल पक जाता है, तब उसे तोड़ने के लिए सभी लपक पड़ते हैं, उसी तरह आज राजनीति में अंबेडकर चहेते हो गए हैं, लेकिन

भारत राष्ट्र के महान शिल्पकार डा0 अंबेडकर

डाॅ0 भीमराव रामजी आंबेडकर भारत राष्ट्र के महान शिल्पकार और सामाजिक एकता के प्रबल सूत्रधार थे। वे इसके लिए जीवन भर प्रयास करते रहे। जब उनको भारत सरकार अधिनियम 1919

‘सुकमा काण्ड’ सुनियोजित और बेरहमी से किया गया हमला है

छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले के पास तरम इलाके में नक्सलियों के साथ मुठभेड़ में 20 से अधिक अर्धसैनिक बल के जवानों की मौत एक बार फिर इस सुदूर आदिवासी क्षेत्र

ज्योतिबा फुले : सामाजिक समरसता के सूत्रधार

भारतवर्ष ऋषियों की तपोभूमि है। सिद्ध साधकों की पुण्य धरा है। समाज सुधारकों के अविरल प्रवाह ने भारत के आंगन का सिंचन कर समरसता के सुवासित सुमन खिलाये हैं। मां

“याद रखना परमेश्वर एक ही है और हम सभी मानव उसकी संतान हैं”

हमारे भारतीय सामाजिक क्रांति के जनक कहे जाने वाले महात्मा ज्योतिबा फुले का जन्म आज ही के दिन यानी की 11 अप्रैल 1827 को महाराष्ट्र के सातारा जिले में माली

अगर हिट रहना है तो आपको फिट भी रहना ही होगा 

कहते है न की अगर  किसी भी राष्ट्र के नागरिक स्वस्थ्य है तो वह राष्ट्र भी स्वस्थ्य है, याद रखना जो रखते है अपने स्वास्थ्य का ध्यान, वो ही एक

सांस्कृतिक गणनाओं के हिसाब से नववर्ष का उत्सवमनाएँ

हमने देखा कि सम्पूर्ण विश्व ने एक नए सफर की तैयारी की।पुराने को अलविदा कहकर नए को पूरी जिंदादिली से ‘सुस्वागतम्’ कहा। चहुँ ओर 1 जनवरी को नववर्ष के आगमन

राष्ट्रवाद के प्रखर प्रहरी बाबू जगजीवन राम

बात चाहे आजादी के संघर्ष की हो अथवा स्वाधीन भारत को अर्थपूर्ण मुकाम देने की या दलित समाज को राष्ट्र की मुख्य धारा से जोड़ने की देश सदैव ही जगजीवन

सोच बदलकर ही मासिक धर्म की गरिमा बढ़ सकती है।

महिलाओं के लिए मासिक धर्म एक प्राकृतिक और स्वस्थ जैविक प्रक्रिया है, इसके बावजूद, यह अभी भी भारतीय समाज में एक निषेध एवं शर्मिंदगी माना जाता है। आज भी लोगों

अंधविश्वास से मौतों का जिम्मेदार कौन ?

हम अंधविश्वास को लेकर कितनी ही जागरुकता भरी बातें कर लें लेकिन इस दंश से हम अब तक भी नही उभर पाए हैं। इस होली पर भी टोने-टोटके ने लोगों

होली एक विशेष पर्व

रंगो का पर्व होली विशेषांक में विशेष है। यह हुडदंगों के साथ तथा गाकर बजाकर चिढाकर खेलते है। वही होरियार है अर्थात (होरि यार) यारो संग होरी । शरद की

गरीबों को किराए पर सरकारी आवास-सम्मानजनक जिंदगी के लिए ‘मील का पत्थर’

संजय सक्सेना/विजय न्यूज़ नेटवर्क। लखनऊ। गांव-देहात या फिर छोटे-छोटे शहरों से रोजी-रोटी की तलाश में या फिर जिंदगी के अपने सपने पूरे करने के लिए बड़े शहरों की तरफ रूख

हिंदी पत्रकारिता के कोहिनूर गणेश शंकर विद्यार्थी

‘हम न्याय में राजा और प्रजा दोनों का साथ देंगे, परन्तु अन्याय में दोनों में से किसी का भी नहीं। हमारी यह हार्दिक अभिलाषा है, देश की विविध जातियों, संप्रदायों

खाटू श्याम के दर से कोई खाली हाथ नही जाता

26 मार्च मेले पर विशेष  विश्व प्रसिद्ध जन-जन की आस्था का केंद्र है खाटू में शीश के दानी खाटू श्याम बाबा। बाबा के दर पर हा करोड़ों भक्तों की भीड़

हमे पागल ही रहने दो,हम पागल ही अच्छे है 

जब भगत सिंह को फांसी पर चढ़ाया गया उस समय भगत सिंह महज 23 साल के थे ,लेकिन उनके क्रांतिकारी विचार बहुत व्यापक और आला दर्जे के थे, दोस्त न

तीरथ सिंह रावत के बयान पर आखिर इतना बवाल क्यों ?

संस्कार और सलवार-कमीज का गहरा नाता है. हमारे यहां लड़कियों की तमीज और तहजीब उनके कपड़ों से ही मापी जाती है। अगर किसी लड़की ने सलवार-कमीज पहन रखी है तो

होली पर्व – बुरा मानें या न मानें?

होली के दिन यदि कोई आपके ऊपर रंग डाले, तो क्या बुरा मानने वाली बात है? बिल्कुल नहीं। अगर कोई खुशी में झूमे-नाचे, तो क्या बुरा मानने वाली बातहै? बिल्कुल

लगातार झूठ बोलने से खत्म हो रही है ‘ममता’ की गंभीरता

भारतीय राजनीति में एक-दूसरे पर आरोप लगाना व झूठ बोलना अब आम बात हो चुकी है लेकिन लगातार ऐसा झूठ बोलना जिसका सच्चाई से कोई लेना-देना न हो वो कहीं

हम सभी कसम खाए,पानी को व्यर्थ होने से बचाएंगे

लाखो प्यार के बिना रहते हैं, पानी के बिना कोई नहीं, जल बचाओ , जीवन बचाओ, मेरे आत्मीय मित्र कोई फर्क ही नहीं पड़ता कि आप कितने अमीर हैं, आप

नौकरी ही नहीं तो  शिक्षक पात्रता परीक्षा के नाम पर ठगी क्यों ?

हरियाणा के मुख्यमंत्री का विधान सभा में जवाब कि प्रदेश में प्राथमिक शिक्षकों की अब जरूरत नहीं कितना शातिराना है सोचिये? जब प्रदेश में शिक्षकों की जरूरत ही नहीं तो

Skip to toolbar