National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: तनवीर जाफ़री

Total 65 Posts

कोरोना: अंतिम संस्कार हेतु स्थिति स्पष्ट करे विश्व स्वास्थ संगठन

कोरोना महामारी पूरे विश्व में अपना रौद्र रूप दिखा रही है। कोरोना संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा लगभग 2 लाख तक पहुँचने वाला है । संक्रमित शवों का अंतिम

कौन सजा देना इन झूठों व अफवाह बाज़ों को ?

वैसे तो समूची पृथ्वी गत तीन दशकों से आहिस्ता आहिस्ता मानव निर्मित अनेक संकटों के चलते बारूद के ढेर में परिवर्तित होती जा रही थी। वैश्विक जलवायु परिवर्तन,दुनिया के कई

कोरोना महा संकट: अंध विश्वास का नहीं, स्वास्थ्य कर्मियों का सम्मान करें

कोरोना महामारी ने पूरे विश्व के समक्ष एक ऐतिहासिक संकट खड़ा कर दिया है। विश्व के अमेरिका,चीन इटली तथाफ़्रांस जैसे अनेक संपन्न व विकसित देश इस भयंकर वॉयरस से निपट

कोरोना: नियम समान व जनहितकारी हों

कोरोना अर्थात कोविड-19 वायरस की भयावहता ने पूरे विश्व को न केवल दहशत में डाल दिया है बल्कि इसने पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था की कमर भी तोड़ कर रख दी

‘करुणा’ जाएगी तो ‘कोरोना’ ही आएगा ?

मानव इतिहास में पहली सबसे बड़ी त्रासदी के रूप में पूरा विश्व इस समय कोरोना के प्रकोप का सामना कर रहा है। दुनिया के जो शहर कभी अपने राजाओं व

दुश्मनी जम कर करो लेकिन ये गुंजाइश रहे…

कांग्रेस पार्टी त्याग कर भारतीय जनता पार्टी की सदस्य्ता ग्रहण करने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पिछले दिनों दिल्ली स्थित भाजपा कार्यालय में पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा व अन्य

भारत को फिर आगे बढ़ाएगा साम्प्रदायिक सौहार्द

पिछले दिनों दिल्ली में फैली सुनियोजत हिंसा में अब तक मरने वालों की संख्या 53 बताई जा रही है। 600 से अधिक दर्ज की गयी प्राथमिक सूचना रिपोर्ट्स से यह

भारत धर्मनिरपेक्ष था,है और रहेगा

स्वयं को ‘देश का नेता’ बताने व जताने वाले चंद आपराधिक मानसिकता के सिरफिरों ने मानो देश में अशांति फैलाने का ठेका ले रखा हो। आए दिन कोई न कोई

दुर्व्यवस्था के कलंक,छुपाने की नहीं, मिटाने की ज़रुरत ?

गत वर्ष सितम्बर माह में अमरीका के ह्यूस्टन में ‘हाउडी मोदी’ नामक एक आयोजन को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित किया था। उस समय अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने

महापुरुषों के विरोध पर केंद्रित राजनीति ?

‘सबका साथ सबका विकास’, गुजरात से शुरू हुआ यह नारा 2013-14 के दौरान चुनाव प्रचार का सबसे प्रमुख नारा बनकर उभरा था। विदेशी मीडिया ने भी इस नारे पर कई

आंदोलन कुचलने के ये नए “लांछन शस्त्र “

स्वतंत्र भारत अब तक के सबसे दीर्घकालीन व राष्ट्र व्यापी आंदोलन का सामना कर रहा है। 1975 के दौरान भी एक बार देश ने ऐसे ही जान आंदोलन का रूप

न्यायप्रिय व धर्मनिरपेक्ष शासक थे ‘छत्रपति शिवाजी’

मराठा शासक छत्रपति शिवाजी का नाम एक बार फिर चर्चा में आ गया है। ‘छत्रपति शिवाजी’ के नाम से जुड़ा ताज़ा विवाद छिड़ा है एक ऐसी पुस्तक को लेकर जिसका

अल्पसंख्यकों की सुरक्षा हर देश की सत्ता का नैतिक कर्तव्य

विश्व का शायद ही कोई देश ऐसा हो जहाँ एक ही धर्म तथा एक ही धार्मिक विश्वास व मान्यताओं के लोग रहते हों। पूरे विश्व के लगभग सभी देशों में

‘असहमति’,लोकतंत्र का आभूषण या राष्ट्रविरोध की पहचान ?

भारत के इतिहास में 1975-77 के मध्य के आपातकाल के दौर को देश के ‘काले इतिहास’ के रूप में जाना जाता है। हालांकि इस विषय में अनेक विचारकों के मत

‘किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है’ ?

केंद्र सरकार द्वारा पिछले दिनों बनाए गए नागरिकता संशोधन क़ानून तथा सरकार द्वारा चलाई जा रही राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर प्रक्रिया के विरुद्ध इस समय पूरे देश में उबाल सा आया

मुफ़्त की ‘लोक लुभावन रेवड़ियां’ बांटने से ज़रूरी है ‘मुफ़्त शिक्षा’

देश का प्रतिष्ठित शिक्षण संस्थान, दिल्ली का जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय, इन दिनों एक बार फिर चर्चा में है। दिल्ली की सड़कों पर आए दिन जे एन यू के छात्रों

अयोध्या निर्णय:सवाल सर्वोच्च न्यायलय की साख का

भारत के इतिहास में 9 नवंबर की तारीख़ अयोध्या के विवादित मंदिर-मस्जिद मुद्दे के न्यायिक समाधान किये जाने की सर्वोच्च न्यायलय द्वारा की गई निर्णय रुपी कोशिश के लिए हमेशा

हर साँस पर मौत की इबारत लिखता ‘जानलेवा प्रदूषण’

 देश के राजनैतिक गलियारों में अक्सर कभी नागरिकों के लिए मुफ़्त शिक्षा का अधिकार,कभी मुफ़्त भोजन का अधिकार,कभी काम करने के अधिकार,कभी स्वास्थ्य सेवा मुफ़्त हासिल करने का अधिकार तो

न कांग्रेस मुक्त भारत न पचहत्तर पार, टूटा अहंकार

महाराष्ट्र तथा हरियाणा राज्यों में हुए विधानसभा के आम चुनावों के परिणाम आ चुके हैं। देश के एक समाचार पत्र ने इन परिणामों के संबंध में अत्यंत उपयुक्त शीर्षक लगाते

Skip to toolbar