National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: व्रत-त्योहार

Total 93 Posts

क्यों मनाई जाती है लोहड़ी? क्या है दुल्ला-भट्टी की कहानी

Lohri 2020: मकर संक्रांति से पहले लोहड़ी का त्योहार मनाया जाता है. लोहड़ी पंजाबियों का मुख्य त्योहार है इसलिए इसकी सबसे ज्यादा धूम पंजाब और हरियाणा में देखने को मिलती

मकर संक्रांति पर गरीबों और जरूरतमंदों को दान पुण्यकारी

भारत त्योहारों का देश है जिसमें देशवासी उमंग और उत्साह के साथ शामिल होकर अपनी खुशियों का इजहार करते है। लोकमंगल के त्योहार देश की सामाजिक, सांस्कृतिक और धार्मिक बुनियाद

मकर संक्रांति : गंगा का सागर में मिलन स्थल है गंगासागर

14 जनवरी मकर संक्रान्ति पर विशेष भारत में गंगा नदी को सबसे पवित्र नदी माना गया है। गंगा नदी गंगोत्री से निकल कर पश्चिम बंगाल में सागर से मिलती है।

जाने कब है श्री काल भैरवाष्टमी

काल भैरव अष्टमी 2019: हिंदू धर्म में काल भैरव को भगवान शिव का ही स्वरूप माना जाता है। मान्यता है कि काल भैरव की उपासना करने से व्यक्ति के सभी

श्री गुरु नानक देव जी “एक युगान्तरकारी महापुरुष” : श्री आशुतोष महाराज

(दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान की ओर से प्रकाशोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएँ) आज से लगभग 550 वर्ष पूर्व अंध-परम्पराओं का सघन कोहरा सर्वत्र व्याप्त था। जनजीवन कुरीतियों, कुसंस्कारों एवं मूढ़ विश्वासों

गुरु नानक ने इंसानियत को दुनिया का सबसे बड़ा धर्म बताया

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550 वीं जयंती देश और दुनिया में भारी उत्साह के साथ मनाई जा रही है। गुरु नानक देव की जयंती उनके अनुयायी

कब है गुरु नानक जयंती?

गुरु नानक का जन्म माता तृप्ता और कृषक पिता कल्याणचंद के घर हुआ था. गुरु नानक की शिक्षाएं आज भी सही रास्ते में चलने वाले लोगों का मार्ग दर्शन कर

देवउठनी एकादशी 2019: तुलसी-शालिग्राम का विवाह कराने का क्या है महत्व?

ऐसी मान्यताएं हैं कि भगवान विष्णु को तुलसी का वरण करने के कारण शालिग्राम का रूप लेना पड़ा था. इसलिए शालिग्राम के रूप में ही श्री हरि का विवाह भगवान

सूर्य उपासना का पर्व है छठ पूजा

छठ सूर्य की उपासना का पर्व है। भारत में सूर्य पूजा की परम्परा वैदिक काल से ही रही है। हिंदुओं के सबसे बड़े पर्व दीपावली को पर्वों की माला माना

छठ पर्व, जानें शुभ-मुहूर्त

शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को नहाय-खाय होता है. इसमें व्रती का मन और तन दोनों ही शुद्ध और सात्विक होते हैं इस दिन व्रती शुद्ध सात्विक भोजन करते हैं.

भाई दूज का क्या है शुभ मूहुर्त?

भइया दूज के दिन ही यमराज के सचिव चित्रगुप्त जी की भी पूजा होती है. इस बार भइया दूज का पर्व 29 अक्टूबर को मनाया जाएगा. दीपावली के दूसरे दिन

क्यों मनाया जाता है भाई दूज?, कैसे करें पूजा?

दीपावली के बाद कार्तिक शुक्ल द्वितिया को भैया दूज का पर्व मनाया जाता है. इस तिथि से यमराज और द्वितिया तिथि का सम्बन्ध होने के कारण इसको यमद्वितिया भी कहा

क्या है भाई दूज के पीछे की कहानी?

भाई दूज पर्व भाईयों के प्रति बहनों की श्रद्धा और विश्वास का पर्व है. इस पर्व को हर साल कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि के दिन ही

जानें गोवर्धन पूजा का क्या है शुभ मुहूर्त?

इस दिन प्रकृति के आधार, पर्वत के रूप में गोवर्धन की पूजा की जाती है और समाज के आधार के रूप में गाय की पूजा की जाती है. दीपावली के

गोवर्धन पूजा जानें क्या है महत्व? पूजन की सही विधि

अन्नकूट के दिन घर में विविध पकवान बनाएं. इसमें प्याज लहसुन का प्रयोग न करें. भोजन बनाकर श्रीकृष्ण को भोग लगाएं. इसे प्रसाद के रूप में ग्रहण करें. घर में

दिवाली पर 37 साल बाद बन रहा है महासंयोग, लक्ष्मी पूजन के लिए शुभ समय

दिवाली के दिन सूर्यदेव का दिन, चित्रा नक्षत्र और अमावस्या का लगभग 37 साल बाद बना महासंयोग महालक्ष्मीजी की कृपा बरसाएगा। साथ ही मां काली की आराधना भी फलेगी। कार्तिक

क्यों मनाई जाती है छोटी दिवाली? जानें क्या है इस दिन दीपक जलाने का महत्व

छोटी दिवाली पर शाम के वक्त घर में दीपक लेकर घूमने के बाद उसे बाहर कहीं रख दिया जाता है. इस यम का दीपक कहते हैं. इस दिन कुल 12

दीपावली के संदर्भ में अध्यात्मशास्त्रीय जानकारी

वसुबारस अर्थात् गोवत्स द्वादशी – 25अकटुबर 2019 वसुबारस अर्थात् गोवत्स द्वादशी, दीपावली के आरंभ में आती है । यह गोमाता का उसके बछडे के साथ पूजन करने का दिन है

कैसे रखें अहोई अष्टमी का व्रत?, पर्व 21 अक्टूबर को है, लेकिन कई लोग 20 अक्टूबर को भी बना रहे है

ये उपवास आयुकारक और सौभाग्यकारक होता है. इस बार अहोई अष्टमी का पर्व 21 अक्टूबर को है, लेकिन कई लोग 20 अक्टूबर को भी ये व्रत रख रहे हैं. अहोई

अखंड सुहाग का प्रतीक- ‘करवा चौथ’

करवाचौथ व्रतेन दीक्षामाप्नोति दीक्षयाऽऽप्नोति दक्षिणाम् । दक्षिणा श्रद्धामाप्नोति श्रद्धया सत्यमाप्यते ।। अर्थ : व्रत धारण करने से मनुष्य दीक्षित होता है । दीक्षा से उसे दक्षता, निपुणता प्राप्त होता है

सजना है मुझे….

सजना है मुझे सजना के लिए.. सही कहा न।सचमुच करवाचौथ के दिन पुरा दिन व्रत करने के बाद भी थकान नहीं लगती।उत्साह रहती है अलग ही क्योंकि आज का दिन

Translate »