National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

Category: होली

Total 35 Posts

मन को ईश्वरीय रंग में रंग कर मनाए दिव्य होली

होली के दिन कोई आपके ऊपर रंग डाले, तो क्‍या बुरा मानने वाली बात है? बिल्कुल नहीं। अगर कोई पिचकारी से रंगों की बौछार करे, तो क्‍या बुरा मानने वाली

होली पर धुलेंडी (धूलिवंदन) मनाने का शास्त्रीय आधार

होली ब्रह्मांड का एक तेजोत्सव है । होली के दिन ब्रह्मांड में विविध तेजोमय तरंगों का भ्रमण बढता है । इसके कारण अनेक रंग आवश्यकता के अनुसार साकार होते हैं

सामाजिक भाईचारे का त्योहार है होली

भारत में फागुन महीने के पूर्णिंमा या पूर्णमासी के दिन हर्षोउल्लास से मनाये जाने वाला रंगों से भरा हिदुओं का एक प्रमुख त्योहार है। लोग इस पर्व का इंतजार बड़ी

कविता : मुबारक हो तुम्हें ..

मुबारक हो तुम्हें .. फाल्गुन की पहली फुहार , मुबारक हो तुम्हें… ये फाल्गुन की बीती यादें , मुबारक हो तुम्हें … इश्क , फिजा ,ये नज्म की बहार ,

क्यों किया जाता है होलिका दहन? ये है पौराणिक कहानी

परंपराएं जीवन शैली को समृद्ध करती हैं और मनुष्य के जीवन को सक्षम बनाती हैं. भारत का श्रृंगार करतीं ये परंपराएं ही भारत को महान बनाती हैं. होलिका दहन में

होली पर नीरज त्यागी की दो कविताएं

होली पर नीरज त्यागी की दो कविताएं 1. अपनेपन की पिचकारी अपनेपन के रंगों से मन की पिचकारी भर दो। अबके होली में तुम सबको एक रंग में भर दो।।

व्यंग्य : रंगों की रंगदारी !

यादों में अब भी गूंजता है – रंगीला रे, तेरे रंग में, यूं रंगा है मेरा मन.. सच ! रंग रंगीले होते हैं। जहां रंगों का फीका पड़ जाना शुभ

कविता : होली के रंग

होली के रंग होली के रंग प्रेम विश्वास भाईचारे प्यार के संग लगाये एक दूजे को गुलाल रंग बढाये रिश्तो नातो की मृदंग। अंग अंग भिगायें रंग से कोई न

शेखावाटी में ढ़फ की ताल पर होली मनाते हैं लोग

बसंत पंचमी के दिन से ही राजस्थान के शेखावाटी क्षेत्र में होली का हल्ला शुरू हो जाता है। क्षेत्र के हर गांवो के मोहल्लों में अपनी- अपनी ढ़फ पार्टी होती

होली भी मनाएंगे और कोरोना को भी हराएंगे

देशवासी होली का पर्व इस बार कोरोना वायरस के साये में मना रहे है। लोगों का कहना है होली भी मनाएंगे और कोरोना को भी हराएंगे। होली जैसे जनता से

कविता : होली आई रे आयी रे होली आयी रे

होली आई रे आयी रे होली आयी रे होली आई रे, फागण री मस्ती छाई रे रंग बिरगी होली और रगं बसंती छायी रे। पड़ी ढोल पर थाप नहीं कि

होलिका दहन पर पूजा का क्या है शुभ मुहूर्त?

हिन्दू धर्म के अनुसार, यह पर्व 2 दिन मनाया जाता है. इसमें सबसे पहले दिन होलिका दहन किया जाता है और दूसरे दिन रंग वाली होली खेली जाती है. 9

होली के रंगों में समाहित है स्नेह की मिठास

रंगों का त्योहार और वह भी शेखावाटी अंचल के साथ तो बड़े बड़े भी उत्साह व उमंग से सरोबार हो जाते है। होली के रंग-बिरंगे रंगों में प्यार ,स्नेह की

मजहब की सीमाओं को तोड़ती ये मोहब्बत की होली

आज जब एक संकीर्ण सोच और कट्टर विचारों के जरिये देश की गंगा जमुनी तहजीब को चोट पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।अपना राष्ट्रवाद तुम्हारा राष्ट्रवाद पर बहस छिड़ी

कविता : होली आयी

होली आयी आयी होली आयी होली निकली मदमस्तों की टोली सबकी जुबाँ पर मीठी बोली प्यार के संग बनेगी होली कोई पिचकारी संग आया कोई रंगीन बन्दूक पाया फव्वारा संग

जिंदगी की होली में खुशियों के रंग

होली त्यौहार पर विशेष  कहते हैं जिंदगी दो दिन का तराना है। आज आना और कल जाना है। इतने छोटे से जीवन पर कैसा अहंकार? हमें नहीं पता कि जन्म

रंगों का महान त्योहार होली का बदलता स्वरूप

होली एक उत्सव या त्यौहार है जो वास्तव में भारत ही नहीं बल्कि पूर उपमहाद्वीप को अपने रंग में सराबोर करता है। हिन्दुस्तान में जो त्यौहार सही मायनों में गंगा-जमुनी

कविता : जॉली … होली

जॉली … होली रंगों में इंद्रधनुष जीवन का होली महोत्सव रंगीन है इसे समझने के लिए हमारे पास समय नहीं है … इसीलिए वसंत ऋतु में आपका स्वागत है होली

नारी दिवस पे दुनिया की हर नारी को नमन

उनसे ही मिली जिंदगी है , और ये जीवन उनसे ही गुलजार यहां , ममता का चमन त्याग से उनके बड़ा न, कुछ जहां में है नारी दिवस पे दुनिया

Skip to toolbar