न्यूज के लिए सबकुछ, न्यूज सबकुछ
ब्रेकिंग न्यूज़

दान की महिमा

यह सच्चाई है कि दान करने से व्यक्ति को आत्म संतुष्टि मिलती है। दान करना पुण्य का काम माना गया है। दान करने से मन और विचारों में खुलापन आता है, यह एक मनोवैज्ञानिक लाभ है। दान करने के संदर्भ में हमें प्रकृति से सीख लेनी चाहिए। जिस तरह वृक्ष परोपकार के लिए फल देते हैं, उसी प्रकार नदियां भी परोपकार के लिए जल देती हैं। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दान करने से इंसान के भीतर त्याग और बलिदान की भावना आती है। इसलिए हमें भी निस्वार्थ भाव से दान करना चाहिए। लेकिन इस दुनिया में कई लोग हैं, जो पास में बहुत कुछ रहते उसका थोड़ा सा दान कर देते हैं और वह भी यश की कामना से। उनकी यही परोक्ष कामना उनके दान को अपर्याप्त बना देती है। संसार में ऐसे भी लोग हैं, जिनके पास बहुत थोड़ा है और वे सारा-का-सारा दे डालते हैं। ये जीवन में और जीवन की सम्पन्नता में आस्था रखने वाले लोग होते हैं और इनका भंडार कभी खाली नहीं होता। यह वही लोग हैं, जो प्रसन्न होकर दान करते हैं और यही प्रसन्नता उनका पुरस्कार है। इस संसार में एक अलग कैटेगरी के भी लोग हैं, जो कष्ट से दान करते हैं और यही कष्ट उनका ईमान है। दान करने वालों में एक और भी वर्ग है, जो सभी में सर्वश्रेष्ठ है। ये वे लोग हैं, जो दान करते हैं और उन्हें दान करते कष्ट नहीं होता, न उन्हें प्रसन्नता की कामना होती है, न पुण्य कमाने की। यह दान, जैसे किसी एकान्त घाटी में हिना अपनी महकती हुई सांसों को पूरे वातावरण में बिखरा देती है, उसी भांति ही है। इसी तरह हमें भी मानवता धर्म पर कायम रहते हुए सदैव दान करने के सर्वश्रेष्ठ वर्ग का अनुकरण करना चाहिए। इसलिए कहा भी गया है किसी की याचना पर दान करना अच्छा है, किंतु उससे कहीं अच्छा है, बिना मांगे स्वेच्छा से देना, वह भी निस्वार्थ भाव के साथ।

अली खान

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar