National Hindi Daily Newspaper
ब्रेकिंग न्यूज़

आओ मिलकर संकल्प लेते हैं कि अपने भारत को विश्वगुरु बनाएंगे

हमारे भारत को 200 वर्षों तक अंग्रेजों की गुलामी से 15 अगस्त 1947 को आजादी मिली थी। हम लोग इस बार 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस की 74 वीं वर्षगांठ मनाने जा रहे हैं। दोस्तों 15 अगस्त 2020 शनिवार को लाल किले की प्राचीर से हमारे प्रधानमंत्री देश को संबोधित करेंगे। प्रत्येक वर्ष 15 अगस्त को लाल किले पर बच्चे शामिल होकर कार्यक्रम में उत्साह बढ़ाते है ,और बहुत से झांकियां निकाली जाती है। लेकिन दोस्तों इस वर्ष 15 अगस्त अलग तरह से मनाया जाएगा, इस वर्ष कोरोना महामारी के चलते बच्चों और बुजुर्गों को इस कार्यक्रम में शामिल नहीं किया जाएगा। दोस्तों कोविड 19 से उपजी वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण की वजह से हम सभी के जिंदगी में सब कुछ बदला-बदला सा नजर आ रहा हैं । आज जमीन के हर कोने पर कोरोना ने अपनी परछाई छोड़ रखी है । एक मेरा सुझाव है कि हम सभी लोग 15 अगस्त को प्रत्येक वर्ष नीले आसमान में उड़ने वाली पतंगों के जरिए कोरोना से बचाव के उपाय क्यों नहीं दे । इसके लिए मुझे लगता है हम लोग जो पतंग उड़ाते हैं उस पतंग पर ही कोरोना से बचने का उपाय लिख दे जैसे कि खुले में ना थूकना, सामाजिक दूरी बनाए रखना, सैनेटाइज करना और हाथों को किस तरह साफ करें, इसके साथ ही अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए क्या क्या खाएं और कौन सा योगा और व्यायाम करें। दोस्तों जिस प्रकार से हम लोगों ने हिंदुस्तान से अंग्रेजों को खदेड़ा था , उसी प्रकार से इस साल स्वतंत्रता दिवस पर कोरोना को भी खदेड़ देंगे हम सब मिलकर। आप सोच कर देखो अगर हम अपने -अपने पतंगों पर कोरोना से बचाव वाला संदेश लिखेंगे और वह पतंग जिस घर में कट कर गिरेगा उस घर में और जागरूकता बढ़ेगी जिससे कोरोना से आजादी मिल जाएगी ।।
दोस्तों हम सब जश्न ए आजादी पर पतंग उड़ा कर उत्सव मनाते हैं। फिर क्यों नहीं कोरोना से लड़ने वाला प्रेरणादायक संदेश उसी पतंग पर लिखा जाए।
हम सब आजादी के 74 वीं वर्षगांठ मनाने जा रहे हैं, इतिहास देखें तो हमारे स्वतंत्रता संग्राम के सेनानियों ने जिस भारत का सपना देखा था उसे सकार हम भारतीयों को ही करना है।
यही मुझे लगता है कि इन भारतीय सपूतों के बलिदानों को सच्ची श्रद्धांजलि होगी और वह भी इस दिन स्वर्ग में उत्साहित हो रहे होंगे । क्योंकि हमारा भारत प्राचीन काल से ही अनेकता में एकता का देश रहा है तभी तो आजादी के स्वप्न को साकार करने में भगत सिंह, सुभाष चंद्र बोस, राम प्रसाद बिस्मिल सरीखे महान क्रांतिकारियों ने शहीद होकर भी एकता की परंपरा का अभूतपूर्व उदाहरण प्रस्तुत किया।|
देखा जाए तो दूसरी तरफ हमारे अहिंसा के पुजारी राष्ट्रपिता महात्मा गांधी सत्याग्रह के माध्यम से गोरो को देश से बाहर निकालने में सफल रहे तथा बाल गंगाधर तिलक जैसी विभूतियां यह कहते थे कि स्वाधीनता मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है मैं इसे लेकर ही रहूंगा।।
ऐसे ही हमारे भारत माता के अनेक सपूतों को भुलाया नहीं जा सकता। आज चंद लोगों के द्वारा देश की एकता अखंडता पर प्रहार किया जा रहा है जो कि एक कोरा सपना है । क्योंकि दोस्तों हम सब देखते है कि जब भी देश में कोई अप्रिय घटना घटती है तब हम सभी भारतीय एकता का परिचय देते हुए तन मन धन से भारत माता के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर करने में तनिक भी विचार नहीं करते हैं।।
दोस्तों 15 अगस्त का दिन ऐतिहासिक महत्व रखता है । इस दिन की याद आते ही उन शहीदों के प्रति हम सभी का श्रद्धा से मस्तक अपने आप ही झुक जाता है , जिन्होंने स्वतंत्रता के यज्ञ में अपने प्राणों की आहुति दिया। इसीलिए दोस्तों हम सभी का पुनीत कर्तव्य है कि हम सभी अपने स्वतंत्रता की रक्षा करें ।।
हमारे देश का नाम आज पूरे विश्व में रोशन तो हो रहा है और भी हम सबको ऐसा कार्य करना है जिससे पूरे विश्व में अपना परचम लहराए। हम सभी देश की प्रगति के साधक बने ना की बाधक बने।।
आओ संकल्प लेते हैं कि घूस, जमाखोरी, कालाबाजारी और नशाखोरी को देश से हमेशा के लिए समाप्त करेंगे मिलकर , हम सभी संकल्प लेते हैं कि भारत माता के नागरिक होने के नाते स्वतंत्रता का ना तो दुरुपयोग करेंगे और ना ही दूसरों को करने देंगे। हम सभी एकता की भावना से रहेंगे और अलगाव, आंतरिक कलह से हमेशा बचेगे । हम सभी के लिए स्वतंत्रा दिवस का बहुत बड़ा महत्व है इसलिए हम सभी संकल्प लेते हैं कि अच्छे कार्य करेंगे और इस देश को विश्व गुरु बनाएंगे।।

(विक्रम चौरसिया)

 

Print Friendly, PDF & Email
Skip to toolbar